नौकरी के लिए आवेदन पत्र | Application Letter for a Job in Hindi

नौकरी के लिए आवेदन पत्र | Application Letter for a Job in Hindi

नौकरी के लिए आवेदन पत्र Application Letter for a Job in Hindi

नमस्कार दोस्तों चलो आज हम लोग नौकरी के लिए आवेदन पत्र । Application Letter for a Job in हिंदी के आवेदन के लिए पढ़ेंगे। हर किसी के लिए नौकरी बहुत ही आवश्यक होती है जब विद्यार्थी पढ़ लिख कर बड़ा होता है तो घर चलाने के लिए एक नौकरी की आवश्यकता होती है उसके लिए हमें जगह-जगह एप्लीकेशन लेटर लिखना पड़ता है। उसका फॉर्मेट कुछ इस प्रकार है:

सेवा में,
प्रबंधक  महोदय,
पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज,
चंडीगढ़

विषय: नौकरी के लिए आवेदन पत्र | Application Letter for a Job in Hindi

मैं यह पत्र आपके विश्विद्यालय में खाली पड़े गीणत के अध्यापक स्थान हेतु लिख रहा हूँ। मुझे इस अवसर का पता, आपके दिए गए विज्ञापन ट्रिब्यून न्यूज़पेपर द्वारा 4 जून 2019 को पता चला। मोहोदय में पहले चितकारा विश्विद्यालय, पटियाला में पढ़ाता था। में वहा भी गणित का अध्यापक था, मेरे को 12 साल का टीचिंग का अनुभव हैं। में अपने हर विद्यार्थी का साथ कभी नही छोड़ता, मेरे अंडर जो कोई विद्यार्थी पढता हैं , वह हमेशा इम्तेहान में उतीर्ण करता हैं। मैं अध्यापक के साथ साथ एक मोटिवेशनल स्पीकर भी हूँ। में विद्यार्तियो के जीवन से जुड़ी मुश्किलें, संदेह आदि का निवारण करता हूँ जिसके लिये मेरे को काफी सारे पुरस्कारों से भी नवाजा गया हैं।

और मैं आशा करता हूँ की में यह कार्य आपके विश्विद्यालय में भी जारी रखु। में यूट्यूब पर भी अपनी शिक्षा साँझा करता हूँ, जो में यहाँ कक्षा में पढ़ाता हूँ वही शिक्षा में यूटूब के माध्यम से सारी दुनिया को देता हूँ। ताकि जिनके पास महँगे कॉलेजेस, विश्वविद्यालय में जाने के पैसे नही हैं, वह भी तथा अगर किसी विद्यार्थी को कक्षा में कुछ समझ में नही आया या फिर कुछ पूछना चाहता है, वह सभ इस ऑनलाइन यूट्यूब एप्प से पूछ सकता हैं, जिसमें सबका लाभ होगा। मेरा मानना यह है की बच्चों को थ्योरी से ज्यादा प्रैक्टिकल में विश्वास रखना चाहिए। इस से एक तोह बच्चों की बुद्धि में व्रद्धि होती हैं तथा उनका पढ़ाई में मन भी लगा रहता हैं।

यह भी पढ़ें   महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र | Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat

जब मैं शुरू में गणित अद्यापक पद के लिए आवेदन किया था,  तब  एक दिन हमारे विद्यालय के विज्ञानं के अद्यापक किसी कारन वश विद्यालय ना आ पाये, मैंने गणित के साथ-साथ विज्ञानं के छेत्र में भी मास्टर्स की हैं कि हैं, जिसको देखते हुए प्रधानचार्य नए मुझे उस दिन विज्ञानं के अद्यापक का काम भी दे दिया। उस दिन मैंने बच्चों को कोई थेओरी नही पढ़ाई बल्कि प्रैक्टिकल करवाया और सभ नए वो दिन काफी कुछ नया सीखा, काफी बच्चों को उस दिन प्रैक्टिकल्स की एहमियत पता चली।

उस दिन से में जब भी बच्चों को विज्ञानं पढ़ाने जाता तबसारे बच्चे काफी उत्साहित रहते। मैं गुरु के स्थान को अवल दर्जे का स्थान मानता हूँ। जब मेरे गुरु जी मेरे को पढ़ाया करते तोह वह भी थ्योरी से ज्यादा प्रैक्टिकल के ऊपर ज़ोर देते थे, जिससे हमसब में उस विषय से काफी सारे प्रश्न पैदा होते जिनका गुरु जी बर्रे ही धिराजता पुरख उत्तर देते। गुरु का स्थान हमेशा हर भगवन , अलाह, जीसस सॉ ऊपर रखा गया है, क्युकि वही तोह है जो हमें इन सबके बारें में बताता हैं। इसीलिये हम कहते हैं ,गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु , गुरु देवो महेश्वर गुरु साक्षात् परम ब्रह्मा तस्मै श्री गुरु वे नमः।

मैं भी उसी तरह अपने गुरु जी द्वारा दी गई शिक्षा को आगे बढ़ाने का काम कर रहा हूँ, मैंने अपनी प्राथमिक शिक्षा सत. ज़ेवियर स्कूल से ली है जिसमें मैंने उतीर्ण किया था। मै आपको यह भी बताना चाहूंगा कि मेरे तीन रिसर्च पेपर हाल ही में पब्लिश हुए हैं अवं मेरा एक गणित के विषय में पेटेंट भी है। में फिलाल दो नए रिसर्च पेपर लिख रहा हूँ जिनका मेरेको पूरी उम्मीद है पब्लिश हो जाएंगे। मैं पढाई के साथ साथ खेल खुद में भी रूचि रकता हूँ। मैं अपने समय का फुटबॉल खिलाड़ी रह चुका हूँ। और फिलाल सत. अंन्स स्कूल के बच्चों को फुटबॉल भी सिखाता हूँ और हाल ही में मेरी टीम मेडल्स भी घर लाई है।

यह भी पढ़ें   Resign Karne Ke liye application Likhen in Hindi | इस्तीफा देने के लिए एप्लीकेशन लिखे

हमारे देश में ज्ञान से ज्यादा एजुकेशन कालीफिकेटीन्स को महत्तव दिया जाता हैं, कॉमपनिएस उसे लेक्र्र जाती है जिन के पास औरो से बेहतर, हाई लेवल काम, कोर्सेज किया हो, बिना यह पता किये की  उसके पास उस कोर्स या कम का ज्ञान भी है या नही।

कहा जाता है कि हमारे देश में युवा ज्यादा है और नौकरियां कम परंतु मेरा मानना कुछ और हैं में मंटा हुआ की नौकरियां तोह है लेकिन उन नौकरियों को करने वाला सही युवा नही है। हमारे देश में स्किल्स की काफी ज़रूरत है।

मैंने स्किल्स मैनजेमेंट को मद्यनाज़र रक्ते हुए एक नयी वेबसाइट बनाई है जिसमें मेरे साथ ही साथ काफी और लोग भी अपना स्किल्स साँझा करते हुए, दुसरोन को समझते वह प्रेरित करते हैं। फिलाल हमारी इस वेबसाइट से नो सों से ज़्यादा युवाओ नए अपनी स्किल्स को बढ़ाया है, एवम कही युवा हमसे जुडे है और खुद जो स्किल्स उनके आती है वह भी हमारी वेबसाइट के सहारे सबके सामने साँझा कर रहे है।

अतः में यही कहना चाहूंगा की आपका धन्यवाद आपने मेरा पत्र पड़ने का समय निकाल। मेरा बायोडाटा आदि एन्क्लोसे किया गया है।

मैं आशा करता हूँ की आप मुझे इंटरव्यू हेतु जरूर कॉल करेंगे, आपके कॉल का इंतज़ार रहेगा।

धन्यावाद,
आपका शुभचिंतक
राज कुमार झा
हाउस न. 00, सेक्टर 46, चंड़ीगढ़
अकाउंट न. Xxxxxxxxxxx
मोबाइल नो. 00000000
10-06-2019

error: Content is protected !!