OLA किस देश की कंपनी है ? | Ola Kis Desh Ki Company Hai ?

OLA किस देश की कंपनी है ? | Ola Kis Desh Ki Company Hai ?

ओला कैब्स (OLA) एक भारतीय राइडशेयरिंग कंपनी है जो उन सेवाओं की पेशकश करती है जिसमें भाड़े पर वाहन और फ़ूड डिलवरी शामिल हैं.ओला कंपनी बैंगलोर, कर्नाटक, भारत में स्थित है. यह  एएनआई टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा विकसित की गई थी.

दुनिया में सबसे पहले सूरज कहाँ उगता है

अक्टूबर 2019 तक ओला का मूल्य लगभग $ 6.5 बिलियन था. सॉफ्टबैंक सहित विभिन्न प्रकार के उद्यम पूंजीपतियों की कंपनी में बड़ी हिस्सेदारी है.

OLAकैब्स की स्थापना 3 दिसंबर 2010 को मुंबई में एक ऑनलाइन कैब एग्रीगेटर के रूप में की गई थी और अब यह बैंगलोर में स्थित है. 2019 तक, कंपनी ने 250 शहरों में 15 लाख (1.5 मिलियन) से अधिक ड्राइवरों के नेटवर्क का विस्तार किया है. इसके फाउंडर्स का नाम अंकित भाटी और भावेश अग्रवाल है.

भावेश अग्रवाल ने अपने करियर की शुरुआत Microsoft के साथ की, जहाँ उन्होंने दो साल तक काम किया, दो पेटेंट दायर किए और तीन रिसर्च पेपर्स को अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित करवाया. जनवरी 2011 में उन्होंने बेंगलुरु में अंकित भाटी के साथ ओला कैब्स की सह-स्थापना की. 2015 में अग्रवाल और भाटी उस साल के सबसे अमीर भारतीयों की सूची में शामिल होने वाले सबसे युवा उद्यमी थे.

नवंबर 2014 में, ओला ने बैंगलोर में एक परीक्षण के आधार पर ऑटो रिक्शा को शामिल करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट शुरु किया. परीक्षण चरण के बाद, ओला ऑटो का विस्तार दिसंबर 2014 में शुरू होने वाले एक्सपेंशन प्लैन के तहत दिल्ली, पुणे, चेन्नई और हैदराबाद जैसे अन्य शहरों में हुआ.

यह भी पढ़ें   IRCTC पर मोबाइल से टिकट कैसे बुक करें | How to book tickets from IRCTC

जनवरी 2018 में ओला ने अपने पहले विदेशी बाजार, ऑस्ट्रेलिया में और सितंबर 2018 में न्यूजीलैंड में विस्तार किया. मार्च 2019 में ओला ने यूके (यूनाइटेड किंगडम) में ऑटो रिक्शा शुरू करने के लिए अपने यूके ऑपरेशन शुरू किए.

10,000 से अधिक ड्राइवरों ने लंदन में लॉन्च से पहले ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों मोड में आवेदन किया था. फरवरी 2020 में, ओला ने अपनी टैक्सी-हाइलिंग सेवाओं को 25,000 से अधिक ड्राइवरों के साथ पंजीकृत किया.

कैब एग्रीगेशन से परे विस्तार करने के लिए, ओला ने दिसंबर 2017 में बढ़ते फ़ूड डिलवरी कारोबार का लाभ उठाने के लिए तब घाटे में चल रही फूडटेक कंपनी फूडपांडा का अधिग्रहण किया।अप्रैल 2018 में, ओला ने सार्वजनिक परिवहन टिकटिंग ऐप Ridlr (पूर्व में ट्रैफलाइन) के साथ अपना दूसरा अधिग्रहण किया.

बाद में अगस्त 2018 में, ओला ने हायरिंग स्कूटी टैक्सी स्टार्टअप वोगो के सीरीज ए फंडिंग को वित्तपोषित किया और दिसंबर में फिर से $ 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया.

कर्नाटक राज्य परिवहन विभाग लाइसेंस की शर्तों के उल्लंघन के लिए ओला को छह महीने के लिए ने निलंबित कर दिया था. ओला द्वारा चल रही बाइक टैक्सी सेवाओं इसके पीछे का कारण था, हालांकि इसके पास केवल लाइसेंस था वो भी फोर व्हीलर टैक्सी संचालन के लिए. बाद में ओला ने अधिकारीयों के साथ समझौता कर अपने लाइसेंस को रिवोक करवाया.

आज बड़े ही नहीं छोटे शहरों में भी ओला ने अपना सिक्का जमा लिया है. भारतीय स्टार्ट अप्स में ओला को एक सक्सेसफुल एक्साम्पल के तौर पर देखा जाता है. ola ने भारत का नाम पूरी दुनिया में अपने बिज़नेस नेटवर्क को फैला कर बढ़ा दिया है.

यह भी पढ़ें   भारत के गृह मंत्री कौन है? Who is the Home Minister of India

 

यदि आपको ये पोस्ट पसंद आया हो तो आगे शेयर करे और ऐसे ही और पोस्ट पढ़ने के लिए हमारी hindi वेबसाइट से जुड़े रहे।

error: Content is protected !!