जल का महत्व पर निबंध। Importance of Water essay in Hindi | Jal Ka Mahtva

0

जल का महत्व दुनिया में हर एक जीव जंतु जानता है| जल प्रकृति का सबसे सर्वोत्तम वरदान है|

jal ka mahtava par nibandh जल का महत्व पर निबंध
jal ka mahtava par nibandh

जल का महत्व पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10 के विद्यार्थियों के लिए:

जीवित रहने के लिए जल ज़रूरी है अन्यथा कोई जीव इस धरती पे बिना जल के नहीं जी सकता| जल जीने  का आसरा है|जल है तोह जीवन है|जल का कोई रंग नहीं है , न ही जल का कोई स्वाद है, और नहीं ही उस्समे कोई खुशबू है| जल एक पारदर्शी तरल है| जल का दूसरा नाम पानी है|इस धरती में सबसे अधिक मात्रा जल की है| इस धरती में  जल की सतह ७१ %  फीसदी फैली हुयी है| धरती पर पाया जाने वाला जल सबसे आम पदार्थ है|

जल धरती पे सबसे महत्व पूर्ण पदार्थ है । सभी पेड़-पौधो, जानवर, मनुष्य के पास जीवित रहने के लिए जल का होना अति आवश्यक है|अगर जल न हो तोह धरती पे जीवन संभव नहीं है|

जल दो पदार्थ के मिश्रण से बना है हाइड्रोजन और ऑक्सीजन|

जल हमारे जीवन में हर-एक कदम पे उपभोगी है| उदहारण के तौर पे जल पिया जाता है जीने के लिए| जल खाना बनाने के लिए इस्तमाल होता है| जल नहाने के लिए उपयोग होता है | जल से कपड़े तथा  हर एक चीज़ जिसको धोया जा सके जल के द्वारा किया जाता है | जल घर और आस पास का वातावरण साफ़ रखने के लिए उपयोग किया जाता है|

जल इस दुनिया की सबसे अमूल्य चीज़ है|जल के देवता वरुण देव है|मनुष्य केवल स्वच्छ जल ही अपने शरीर के लिए उपयोग में ला सकता है अन्यथा इसका बुरा असर उसके स्वस्थ पे पड़ता है|

पीने के लिए १०० % शुद्ध पानी ही आवश्यक है क्योंकि हमारा शरीर स्वच्छ और निर्मल जल ही अपना सकता है अन्यथा हमरे शरीर में इसके बुरे असर पड़ते है| पानी आपको निर्जलित होने से रोकता है और यदि इंसान निर्जलित  हो जाये तोह इंसान शक्तिहीन हो जाता है|एक आदमी को दिन में लगभग 7-८ गिलास पानी पीना आवश्यक होता है|

जल आग बुझाने में बहुत आवश्यक है|कहीं आग लगी हो तोह जल द्वारा ही उस आग पे काबू पा सकता है अन्यथा और कोई पदार्थ धरती में जल जितना सहज नहीं आग बुझाने के लिए| जल न हो तोह दुनिया में कहीं भी बड़े पैमाने में आग बुझाना संभव नहीं है|जल आज एक सबसे मूल्यवान चीज़ है क्योंकि जल से ही हमरी ज़िन्दगी में अहमियत रखने वाली चीज़ यानि बिजली बनती है| बिजली बनाने के लिए जल का उपयोग होता है, जल ना हो तोह हमे बिजली बनाने में बहुत कठिनाई हो सकती है|

READ  समय का सदुपयोग पर निबंध | Samay ka Sadupyog Essay in Hindi

बिजली कुछ अन्य प्रकारों से भी बनती है पर सबसे अधिक फीसदी बिजली के उत्पादन में जल द्वारा ही होती है| एक मनुष्य का शरीर ७० फीसदी जल से बना होता है, पर ये अलग-अलग उम्र के लोगों में अलग-अलग  प्रतिशत है जैसे बच्चो में ये ७५ %, वयस्कों में ६०% और बुज़ुर्गों में ५० प्रतिशत जल की मात्रा शरीर में होती है|अशुद्ध जल पीनी से तकरीबन २०० बच्चे रोज़ इस दुनिये से चले जाते है | धरती पे जल ७१ प्रतिशत है जिसमे से ९६.५  प्रतिशत जल समुद्र में है | धरती पे केवल २.५ प्रतिशत जल ही ताजा पानी है जिसमे से सिर्फ १ प्रतिशत मानव उसे इस्तमाल कर पता है |

जल के कई स्रोत है जैसे सतही जल जो की वर्षा होने पे एक स्थान पे एकत्र किया जाता है जिसका उद्धरण बांध है| नदियों और झीलें जल पाने का सबसे बड़ा स्त्रोत्र है|फिर भूजल सबसे ज़ादा इस्तेमाल किये जाने वाला जल का स्त्रोत्र है|

विकासशील दुनिया में बीमारियों का ८० प्रतिशत संबंध असुरक्षित जल से है|

खेती के लिए भी जल बहुत आवश्यक है, जल ना हो तोह कोई भी फसल का उत्पादन नहीं किया जा सकता | मुसब्बर जैसे पौधों को भी जल की आवश्यकता होती ही है| हमारे देश में जल की अहमियत बहुत कम लोग समझते है तकरीबन ना के बराबर| हमारे देश में ५० % जल यूँही बर्बाद होता है रिसाव होने के कारण | देश में कई ऐसे शहर है, जहाँ लोग रोज़ाना कई मील दूर जाते है पानी लाने के लिए | एक आदमी बिना खाये एक माह जीवित रह सकता है पर बिना जल के सिर्फ १ सप्ताह | वर्तमान युग में तकरीबन २६५ ऐसी घटनाये हुयी है २०१२ तक जो की जल को लेकर हुयी है|

धरती में समुद्र, जल का सर्वोत्तम स्थान है और समुद्र के कारण आदमी का दुनिया ब्रामण संभव हुआ|

आज के समय समुद्र जल परिवहन के लिए बहु उपयोगी है| समुद्री जल से इंसान को उसके जीवन में बहु उपयोगी खाद्य पदार्थ नमक की पूर्ती होती है क्योंकि समुद्र का जल खरा होता है जिससे हम नमक उत्पादन कर पाते है | नमक के बिना आदमी कई रोगो का शिकार हो सकता है, और ये नमक भी जल द्वारा प्राप्त होता है|

पानी में रहने वाले जीव बिना जल के नहीं जी सकते जिसमे मछली प्रमुख है|आज इंसान नदियों को दूषित करने का एक भी अवसर नहीं छोड़ता, जिस कारण पानी में रहने वाले जीव बहुत जल्द ख़त्म होते जा रहे है|नदियों में कारखानों से निकलने वाले वैशिले पदार्थ दाल दिया जाता है जिससे जल दूषित होते जा रहा है और इसी दूषित पानी से सभी जीव जंतु बिमारियों से पीड़ित होते जा रहे है|

READ  नदी बचाओ पर निबंध| नदी बचाओ स्लोगन | नदियों का संरक्षण पर निबंध

धरती को जल वर्षा द्वारा प्राप्त होता है जो की एक चक्र की तरह चलता रहता है।

जल कृषि के लिए अति आवश्यक है, कृषि में पानी का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग सिंचाई के लिए है।

जल द्वारा ही घर का निर्माण किया जाता है अन्य पदार्थों के मेल द्वारा | स्वच्छ जल पूरी धरती में सबसे ज़ादा अंटार्टिका नामक देश में पाया जाता है जहाँ कोई आदमी नहीं रहता|

आज के समय भारत ने चाँद पे भी जल खोज निकला है| विश्व भर के सभी वैज्ञानिक अन्य ग्रहो पे जल को ढूंढने में लगे है ताकि अन्य ग्रहों पे भी जीवन खोजा जा सके क्योंकि धरती पे यदि जल इसी तरह बर्बाद होते रहा है तोह एक दिन हमारी आने वाली पढ़ी के लिए जल पूर्ती होना बहुत मुश्किल हो जायेगा|

एक समय था जब हर जगह जल आसानी से मिल जाया करता था और आज जल के लिए कई जगह कई प्रयत्न करने पड़ते है | इसलिए जल का संरक्षण करे और अपने आस पास हो रहे जल के व्यर्थ को रोके|

जल का महत्व पर निबंध (600 Words)

जल ही जीवन है बिना पानी किसी भी प्राणी का जीवन संभव नहीं है पानी की समस्या से मानव मात्र ही नहीं , हर प्राणी का जीवन खतरे में है | पानी बचाने को लेकर भारत सरकार ने भी कई उपयोगी कदम उठाएं ताकि हम सभी का जीवन खतरे से बाहर हो सके |साथ ही हम पानी की समस्या का सुरक्षित और सही समाधान भी निकाल सके | आज हमारे देश में पानी की समस्या से बहुत सारे गांव और शहर खतरे से जूझ रहे हैं|

आज हमारे देश में हमारी सरकार ने हम सभी के सुविधा के लिए बहुत सारे बांध, तालाबो और नलकूपों के साथ-साथ हैंडपंपों की सुविधा भी करवाई है | आज हमारा देश बदल रहा है| पानी को बचाने के लिए सरकार के साथ-साथ मानव हम सब का भी यह कर्तव्य बनता है कि के पानी को बचाने के लिए अनेकों कदम उठाएं ताकि हम सभी का और आगे आने वाली पीढ़ी का भी भविष्य सुरक्षित हो सके क्योंकि हम सभी के योगदाऩ दान से होने वाली पानी की कमी की पूर्ति हो सकती है|

आज हम सभी जानते हैं चाहे एक इंसान चाह तोे बड़ी से बड़ी समस्या भी आसानी से हल हो जाती है अर्थात हम सभी व्यक्तियों का यह कर्तव्य बनता है की अपनी अपनी जिम्मेदारियों को ध्यान में रखते हुए पानी बचाओ अभियान में अपना योगदान दें | साथ ही चारों तरफ देखते हैं लोग बिना वजह पानी खर्च कर रहा है जिनमें से खुद कुछ उदाहरण कुछ इस प्रकार हैं-

1. पीने के बहाने लोग प्रयोग कम बर्बाद अधिक करता हैं|

2. कपड़े धोने में लोग जरूरत से ज्यादा पानी बर्बाद करता है|

3. स्वयं के नहाने और जानवरों को नहलाने के बहाने बिना वजह अधिक पानी बेकार होता है|

4. मकान बनवाने में लोग बिना वजह ज्यादा पानी बर्बाद करते हैं|

5. रोड वा सड़कों के निर्माण में अधिक पानी व्यर्थ जाता है|

6. सिंचाई आदि के बहाने भी आवश्यकता से अधिक मात्रा में पानी बर्बाद होता है|

7. शादी विवाह बर्थडे तथा अन्य शुभ अवसरों में भी पानी की मात्रा बर्बाद होती है|
8. जल विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से भी पानी बर्बाद होता है|

9. पुराने बिगड़े हुए पाइपलाइन और उनकी देखभाल ना होने की वजह सेे व समय पर उनकी मरम्मत न होने की वजह से भी पानी की अधिक मात्रा व्यर्थ होती है|

10. बड़ी बड़ी फैक्ट्री तथा कारखानों मैं पानी की अधिक से अधिक मात्रा व्यर्थ होती है क्योंकि वहां बिना वजह भी पानी का उपयोग किया जाता है|

इस प्रकार हमारे समाज में और भी ऐसे कई कार्य हैं जहां बिना वजह पानी की अधिक मात्रा उपयोग की जाती है इससे ना सिर्फ हमारी पीढ़ी बल्कि आगे आने वाली कई पीढ़ियों का जीवन भी खतरे में पड़ सकता है अतः समय रहते हम सभी मानव का यह पहला कर्तव्य बनता है की पानी की उपयोगिता को समझते हुए सही जगह और जरूरत के मुताबिक पानी का प्रयोग करें| बिना वजह पानी का प्रयोग ना स्वयं करें और ना ही तो किसी को करने द क्योंकिें आज का लिया हुआ हमारा यह कदम आगे आने वाली कई पीढ़ियों का जीवन बचा सकती है|

प्रकृति के लिए जल का महत्व

हम सभी जानते हैं कि मानव मात्र के अलावा भी इस पृथ्वी में पाए जाने वाले हर प्राणी के लिए पानी का बहुत ही महत्व है|साथ ही प्रकृति का संतुलन सही बना रहे इस बात के लिए भी पानी का या जल का बहुत ही महत्व है|

हम सभी जानते हैं पेड़ पौधों को बचाने के लिए पानी को बचाने की प्राथमिकता पहले देनी होगी क्योंकि बिना पानी के पेड़ पौधों का जीवन दुर्लभ है साथ ही बिना पेड़ पौधों के वातावरण के मानव या किसी भी जीवो का जीवन संभव नहीं है साथ ही बिना पेड़ – पौधों के बारिश का होना भी असंभव है और बिना बारिश के प्रकृति का संतुलन असंभव है|

जुड़े रहे hindi.todaysera.com के साथ !