नेपाल की राजधानी का नाम क्या है। Capital of Nepal in Hindi

नेपाल की राजधानी क्या है ?नेपाल में राजधानी के सभी तत्व हम आपको विस्तार से बताते हैं।चलिए जानते हैं बिना किसी टाइम वेस्ट करें। नेपाल की राजधानी क्या है और नेपाल की कुछ खूबियां।
नेपाल की राजधानी का नाम क्या है Capital of Nepal in Hindi

नेपाल की राजधानी:- काठमांडू

हेलो दोस्तों नेपाल की राजधानी काठमांडू है।दोस्तों काठमांडू नेपाल का एकमात्र ऐसा शहर है जोकि सबसे पुराना और ऐतिहासिक माना जाता है। काठमांडू बहुत ही शांतिप्रिय और मनमोहक जगह है जहां पर यदि आप एक बार चले गए तो आप वापस आने का नाम ना ले। काठमांडू नेपाल में काफी ऊंचाई पर स्थित है पहाड़ों के बीच में जो की समुद्र तल से लगभग 1300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

नेपाल की राजधानी काठमांडू के दर्शनीय स्थल 

नेपाल में बसा हुआ यह शहर बहुत ही ज्यादा खूबसूरती का धनी है और यहां पर सालाना बहुत सारे पर्यटक घूमने के लिए और मन को शांति दिलाने के लिए आते हैं। काठमांडू मैं बोधनाथ स्तूप जोकि सबसे पुराना है और काफी विशालकाय बना हुआ है। काठमांडू का सबसे प्रसिद्ध श्री पशुपतिनाथ का मंदिर अपने आप में एक बहुत ही बड़ा दर्शनीय स्थल है। इसके अलावा काठमांडू में आप ऊंची पहाड़ियों पर ट्रेकिंग कर सकते हैं और बर्फ पर स्केटिंग कर सकते हैं और पानी में डाइविंग भी कर सकते हैं।

Capital of Nepal: Kathmandu

नेपाल और भारत में समानता 

नेपाल और भारत यदि देखा जाए तो एक दूसरे से काफी मिलते-जुलते हैं और रहन सहन खानपान और पहनावा लगभग एक जैसा ही है।आप भारत से नेपाल जाते हैं तो आपको कुछ भी ज्यादा अजीब नहीं लगेगा और ना ही आपको खानपान की दिक्कत होगी।इसके अलावा आप बड़े ही आराम से नेपाल में घूमने फिरने के साथ-साथ लोगों से बातचीत करने में भी कोई दिक्कत नहीं होगी। नेपाल में ज्यादातर हिंदी बोली जाती हैं।

चलिए अब हम आपको बताते हैं नेपाल की राजधानी काठमांडू मैं दर्शनीय और घूमने लायक जगह के बारे में:- 
  1. पशुपति नाथ मंदिर:- 

काठमांडू स्थित भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है जहां पर हमारे भोलेनाथ यानी कि भगवान शिव की प्रतिमा लगाई गई है। भगवान पशुपतिनाथ का मंदिर पहाड़ी के ऊपर एक चोटी पर चबूतरे के जैसे बना हुआ है और यह अपने चारों तरफ से बड़ी बड़ी गहरी घाटियों और हरी-भरी वादियों के साथ-साथ बागमती नदी से भी गिरा हुआ है। हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र स्थल है और भोलेनाथ के इस दरबार में महाशिवरात्रि की रात्रि को भक्तों और श्रद्धालुओं के उमड़ती हुई भीड़ बहुत ज्यादा होती है।

2. नगरकोट पहाड़ी:-

नेपाल जाना और वहां की ऊंची ऊंची चोटियों और पहाड़ियों के दृश्य देखे बिना शायद ही कोई वापस लौटता है। ऐसे में इन्हीं ऊंची ऊंची हिमालय की चोटियों और माउंट एवरेस्ट की ऊंचाइयों का लुफ्त उठाने के लिए नगरकोट जोकि काठमांडू से तकरीबन 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शहर है। दरअसल नगरकोट समुद्र तल से 2300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित होने के कारण वहां से आप सूर्योदय और सूर्यास्त के समय बहुत ही शानदार मनमोहक और आंखें ठंडी कर देने वाला नजारा देख सकते हैं।

3. काठमांडू की पोखरा घाटी स्थल:- 

दोस्तों अगर आप काठमांडू गए और वहां पर तो पोखरा घाटी ही नहीं देखी तो फिर आपने कुछ नहीं देखा। पोखरा घाटी काफी ऊंचाई पर स्थित है और वहां से आप सबसे फेवरेट चोटी माउंट एवरेस्ट को बड़ी ही आसानी से देख सकते हैं। काठमांडू के पोखरा घाटी की खास व्यू के लिए यहां पर पर्यटकों का तांता यानी की भीड़ लगी रहती हैं। इसके अलावा आप पोखरा घाटी से तैरते हुए बादलों में सफर भी कर सकते हैं जो कि हर व्यक्ति के मन में होता है।

4 . बौद्ध नाथ स्तूप स्थल :- 

काठमांडू में बना हुआ भगवान बुद्ध का बौद्ध स्तूप दुनिया का सबसे बड़े स्तूपो के टक्कर में काफी बड़ा है और विशाल भी। भगवान बुद्ध के इस बोध स्तूप को वहां के राजा श्री मन देवाने अपने देवी माता मनी जोगिनी के आदेश पर बनवाया था।यह बौद्ध स्तूप बहुत ही शानदार बना हुआ है और इसके आसपास का पूरा माहौल बहुत ही शांतिप्रिय है।

5 .ललितपुर ओर पाटन स्थल :- 

ललितपुर और पाटन दरअसल एक ही शहर के नाम हैं जो कि काठमांडू के अंदर ही बसे हुए हैं लेकिन पर्यटन और दर्शनीय स्थल के नाम पर अपने आप में एक अच्छी जगह बनाते हैं पर्यटकों के बीच में। दरअसल ललितपुर अथवा पाटन में बहुत सारी प्रतिमाएं बनी हुई है जो कि हस्तशिल्पी कारों द्वारा बनाई गई है और यह देखने में बहुत ही ज्यादा शानदार और आश्चर्यजनक लगती हैं।

तो दोस्तों इस प्रकार आपने देखा कि नेपाल की राजधानी काठमांडू अपने आप में कितनी प्रसिद्ध और लोकप्रिय दर्शनीय है। हमारी यही आशा है कि आप एक बार जरूर नेपाल की राजधानी काठमांडू में जाए और ऊपर बताए गए इन सभी दर्शनीय स्थलों पर भ्रमण करें। धन्यवाद

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई है तो इस पोस्ट को फेसबुक, Instagram और Pintrest पे share करें|

यह भी पढ़ें   थर्मामीटर का आविष्कार कब और किसने किया?

ऐसे ही रोजाना जानकारी पाने के लिए जुड़े रहे hindi.todaysera.com/ के साथ।

 

error: Content is protected !!