अनुशासन का महत्व पर निबंध- Essay on Discipline in Hindi

0

जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंध

दोस्तों आज हम अनुशासन का महत्व पर निबंध- Essay on Discipline in Hindi के बारे में पढ़ने जा रहे हैं  अनुशासन हमारे जीवन में हर दिशा में बहुत उपयोगी होती है। यह हमारा करियर अच्छा बनती है


अनुशासन का महत्व पर निबंध प्रस्तावना

अनुशासन जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है अनुशासन अर्थात स्वयं शासन अथवा संयम रखना अथवा दूसरे शब्दों में शासन को पालन करना ही अनुशासन कहते हैं मनुष्य जीवन में अनुशासन का स्थान सबसे महत्वपूर्ण है और जैसा कि हम जानते हैं अकेला व्यक्ति समाज नहीं बना सकता| अतः अगर उसे समाज में रहने के लिए उसे समाज द्वारा बनाए गए  शासन का पालन करना चाहिए इसे अनुशासन कहते हैं|

जीवन का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जहां अनुशासन ना हो भोजन करने में भी अनुशासन है, पढ़ने में अनुशासन और जागने तथा सोने में भी अनुशासन है| हमारी प्रकृति में भी अनुशासन है जैसे सूरज तथा चांद का सही समय पर निकलना सही समय पर डूबना ऋतु का सही समय में आना यह भी अनुशासन का पाठ है|

अनुशासन का महत्व हिंदी निबंध

अनुशासन के प्रकार:-

  अनुशासन के बहुत से प्रकार है जो कि  निम्न है:

  •  सकारात्मक अनुशासन:- सकारात्मक अनुशासन, अनुशासन का एक ऐसा प्रकार होता है जिस सिर्फ सकारात्मक बिंदुओ पर ही केंद्रित होता है|  सकारात्मक अनुशासन मनुष्य के मन में ऐसा विचार पैदा कर देता है जो कि यह बताता है कि मनुष्य गलत या सही नहीं होता उसके व्यवहार गलत या सही होते हैं| सभी माता-पिता अपने बच्चों को सही तथा गलत के बीच में फर्क करने का हुनर सिखाते हैं और उन्हें इसी क्षेत्र में और अच्छा बनाने के लिए वह उन्हें स्कूल तथा अन्य संस्थाओं में भेजते हैं जो सकारात्मक अनुशासन को बढ़ावा देता है| 
  •  नकारात्मक अनुशासन:- नकारात्मक अनुशासन, अनुशासन का ऐसा प्रकार है जिसमें देखा जाता है कि मनुष्य यदि कोई गलत व्यवहार कर रहा है तो उस पर उसका क्या प्रभाव पड़ेगा और उससे जबरदस्ती किसी नियम अथवा कानून का पालन करवाना भी नकारात्मक अनुशासन के अंतर्गत आता है|
  •  सीमा आधारित अनुशासन:- सीमा आधारित अनुशासन, अनुशासन का वह प्रकार है जिसमें या पता चलता है कि किसी नियम की सीमा कहां तक है अगर उस सीमा को तोड़ा जाए तो उसे तोड़ने वाले को क्या दंड मिलेगा  इसीलिए बच्चे किसी भी नियम को तोड़ने का दुस्साहस नहीं करते और इसी कारण से सकारात्मक अनुशासन को भी बढ़ावा मिलता है|
  •  व्यवहार आधारित अनुशासन:- यह अनुशासन का एक ऐसा प्रकार है जिसमें व्यवहार सब कुछ होता है किसी व्यक्ति के अंदर सकारात्मक  अनुशासन तथा नकारात्मक अनुशासन दोनों ही होते हैं यदि वह सकारात्मक अनुशासन के अनुरूप कार्य करता है तो उससे पुरस्कार मिलते हैं तथा उसकी तारीफ होती हैं और यदि वह नकारात्मक अनुशासन के अनुरूप कार्य करता है  तो इससे बहुत से दुष्परिणामों निकल कर आते हैं|
  •  आत्म अनुशासन:- जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है आत्मानुशासन अर्थात अपने ऊपर अनुशासन रखना यदि हम अपने ऊपर अनुशासन रखेंगे अथवा खुद अनुशासित रहेंगे और अपने शरीर को अनुशासित रखेंगे तो हमारा शरीर अच्छे से कार्य करेगा तथा किसी भी कार्य को तय समय पर और सही ढंग से कर पाएंगे इसके बहुत से उदाहरण है जैसे सुबह सही समय पर उठना योग करना नियमित पौष्टिक आहार लेना आदि आत्मानुशासन के उदाहरण हैं।
अनुशासन के लाभ
READ  गाय पर 10 लाइन- 10 lines on Cow in hindi

 अनुशासन में रहने से कई लाभ होते हैं जो कि निम्न है:

  •  मन केंद्रित रहना:-  अनुशासन में रहने से दिमाग केंद्रित रहता है जिससे हम अपने लक्ष्य से भटकते नहीं हैं तथा अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में अनुशासन का पालन करने से हम अपने लक्ष्य की ओर रोज एक कदम आगे बढ़ते हैं अनुशासन का पालन करने से ध्यान इतना केंद्रित रहता है कि मानसिक समस्याओं का भी समाधान हो जाता है अनुशासन का पालन करने वाला मनुष्य कभी अपने लक्ष्य से भटकता नहीं|
  •  सम्मान की प्राप्ति होना:- बहुत से लोग सम्मान प्राप्ति के लिए बहुत से उपायों को अपनाते हैं परंतु अनुशासन में रहना एक ऐसा उपाय है जिससे आप कहीं भी जाएंगे आपको सम्मान की प्राप्ति अवश्य होगी अगर आप अनुशासित रहते हैं तो आपके आसपास के लोग आपको अपना आदर्श भी मान सकते हैं तथा आपके बताए हुए रास्तों पर चलने का प्रयास भी कर सकते हैं आज के समय में अनुशासित लोगों को ही सम्मान की प्राप्ति होती है अन्यथा जो अनुशासित नहीं है आज उन्हें इस समाज में कोई भी नहीं पूछता है|
  •  अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति:- जो व्यक्ति अपने जीवन में हमेशा अनुशासन का पालन करता आया है जैसे कि सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठना  नित्य क्रिया के पश्चात योग करना तथा पौष्टिक आहार लेना और अपने नियमित कार्यों को सही समय पर करना एक अनुशासित व्यक्ति की निशानी है अगर आप सही समय पर सही कार्य करते हैं तो आपको एक अच्छे स्वास्थ्य की भी प्राप्ति होगी तथा आप को हर जगह सम्मान की भी प्राप्ति होगी|
  •  हर वक्त सक्रिय रहना:- अनुशासन जीवन की कैसी कुंजी है जो कि जीवन में सकारात्मक अनुशासन कोप्रोत्साहित करती है, आत्मविश्वास को जगाती है और उत्साह पैदा करती है जिससे आप हमेशा सक्रिय रहते हैं नियमित भोजन करने से नियमित व्यायाम करने से आप हमेशा सक्रिय अवस्था में रहेंगे एक विद्यार्थी को अनुशासन में जरूर होना चाहिए क्योंकि सक्रिय अवस्था उसके लिए एक ऐसी अवस्था है जो उसे भविष्य में बहुत आगे तक पहुंचा सकती है|
  • आत्म नियंत्रण:- जो लोग अनुशासित होते हैं अथवा अपने आप को अनुशासन में रखते हैं उनके बात करने का ढंग, खाने का ढंग, उठने बैठने का ढंग आदि बहुत ही अनुशासित तरीके से होते हैं उन्होंने अगर कोई दृढ़ निश्चय कर लिया है तो वह उसे अवश्य ही पूरा करेंगे यह एक अनुशासित व्यक्ति की  महत्वपूर्ण निशानी है|आज के समय में अपने आप को आत्म नियंत्रित रखना एक बहुत बड़ी समस्या है जिसमें बहुत से व्यक्ति असफल होते हुए दिखाई देते हैं अगर आपको आत्म नियन्त्रित होना है तो आप को अनुशासित रहना होगा|

     

  •  तनाव से मुक्ति:-  आज के समय में बच्चों से लेके नौकरी पेशे के लोगों तक सभी तनाव में रहते हैं कोई बच्चा अपनी पढ़ाई को लेकर तनाव में रहता है तो नौकरी पेशे लोग अपने काम के बोझ को लेकर तनाव में रहते हैं जब कोई व्यक्ति अनुशासित होता है तो वह अपने कार्यो को नियमित और सही समय पर अपने  पूरा करता है तो वह तनाव मुक्त हो जाता है|यदि कोई व्यक्ति अनुशासित नहीं है तो अपने कार्यों को सही समय पर पूरा नहीं कर पाएगा जिससे वह हमेशा तनाव में ही रहेगा अथवा अगर हमें तनावमुक्त रहना है तो हमें अनुशासित होना पड़ेगा तनाव से मुक्ति के लिए अनुशासन ही एकमात्र कुंजी है।

अनुशासन का हमारे जीवन में महत्व:-

अनुशासन का हमारे जीवन में बहुत महत्व है असल में तो बिना अनुशासन के जीवन व्यर्थ है अनुशासन के कुछ महत्व निम्न है

1- हम जाने अनजाने में अनुशासन का पालन रोज करते हैं चाहे वह स्कूल में हो, चाहे वह दफ्तर में चाहे, वह संस्था में हो, चाहे वह कॉलेज में हो, चाहे वह घर में हो यहां तक कि युद्ध में भी हम अनुशासन का पालन करते हैं क्योंकि अनुशासन हमारे जीवन का एक हिस्सा बन चुका है |

2- अगर हम अनुशासित हैं तो हमारा काम जो हम कर रहे हैं वह सही रूप से सही ढंग से सही समय पर पूरा हो जाता है जिससे हमें आंतरिक खुशी तो मिलती है और दूसरों से सम्मान भी प्राप्त होता है क्योंकि हमने उस कार्य को सही समय पर सही ढंग से पूर्ण किया है इसीलिए अनुशासन हमारे जीवन में महत्वपूर्ण है|

3- अनुशासन के बिना हम जीवन में कोई भी कार्य नहीं कर सकते चाहे वह स्कूल का हो दफ्तर का हो कारखानों का हो घर का हो यहां तक कि सामाजिक जीवन में भी अनुशासन का एक महत्वपूर्ण स्थान होता है जो कभी भी खाली नहीं किया जा सकता अगर यह स्थान खाली हो जाता है तो इंसान एक जानवर के समान हो जाता है|

4- अनुशासन के द्वारा हम जीवन में कम समय में बहुत सारे ऐसे अनुभव कर जाते हैं जो एक आदमी जो कि अनुशासित नहीं है वह आदमी कभी वह अनुभव कर ही नहीं सकता जो हमने कम समय कर लिया उसको इस अनुभव करने के लिए अनुशासन का पाठ अवश्य पढ़ना होगा |

 विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व:-

विद्यार्थी जीवन, जीवन का एक ऐसा क्षण होता है अगर इस क्षण में अनुशासन का पाठ नहीं सीता जो जीवन भर नहीं सीख पाएंगे क्योंकि अनुशासित रहकर पढ़ाई करना और उसका पालन करके अपने आप को स्वस्थ रखना यह हम विद्यार्थी जीवन से ही सीख सकते हैं क्योंकि हमें ब्रह्म मुहूर्त में उठना चाहिए नित्य क्रिया के पश्चात व्यायाम तथा पौष्टिक आहार लेना चाहिए यह हमें स्कूल में अनुशासन के पाठ के तौर को पढ़ाया जाता है|

अगर हम इसे अपनी विद्यार्थी जीवन में  लागू नहीं कर सके तो फिर इस पाठ को पढ़ने का कोई अर्थ नहीं है यदि हम विद्यार्थी जीवन में अनुशासन रहे कर पढ़ाई करते हैं तो हमारे शरीर और दिमाग का विकास सही ढंग से होगा इसलिए ही हमें विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का पाठ अवश्य पढ़ना चाहिए तथा उसे अपने विद्यार्थी जीवन में लागू भी करना चाहिए|

 अनुशासन का महत्व पर निबंध निष्कर्ष:- 

किसी ने सच ही कहा है अनुशासन ही सफलता की कुंजी है इसी कारण जब कोई व्यक्ति अनुशासन को अपनाता है अथवा उसका पालन करता है तो सफलता उसके कदम चुमती है इसीलिए इस आधुनिक दुनिया में अनुशासन को इतना जोर दिया जाता है हमें प्रकृति से अनुशासन का पाठ सीखना चाहिए जिस प्रकार सूरज, चांद तथा ॠतुऐ अपने सही समय पर आती है और चली जाती है हमें भी उसी प्रकार अपने हर कार्य को सही ढंग से और सही समय पर करना चाहिए यह अनुशासन का ही एक पाठ है |

अनुशासन पर कविता

सूरज है अनुशाशन में चंदा भी है ।

अनुसाशन मे अनुसाशन मे पवन चले ॥

अनुसाशन मे अनल जले ।

अनुसाशित धरती माता ॥

अनुसाशित जीवन दाता ।

अनुसाशित समुँदर सारे ॥

अनुसाशित हैँ पर्वत सारे ।

अनुसाशन मे है जीवन उत्थान ॥

अनुसाशन का स्थान महान ।

अनुसाशन हम कभी न छोड़े ॥

अनुशासन हम कभी न तोड़े ।

अनुसाशन मैं है भगवान ॥

हमेशा रखे अनुसाशन का ध्यान ।

अनुसाहन है सबसे महान ॥

जय हो अनुसाशन  ॥

अनुशासन का महत्व पर निबंध के बारे मे जानकर आपको कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताये । अगर आपको इसके बारे में कुछ और भी पता है या आपक कोई भी सवाल है तो हमें कांटेक्ट करें।

यह था जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंध- Essay on Discipline in Hindi in हिंदी । हम आशा करते हैं कि जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंध- Essay on Discipline in Hindi in हिंदी में जानकारी प्राप्त हो गयी होगी । मैं कुछ ऐसी ही posts आगे update करता रहूँगा, जिससे आप अधिक से अधिक ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। आप चाहे तो इस page को bookmark or save कर लीजिये|

कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि व्हाट्सप्प, Facebook, Instagram और Twitter इत्यादि पर share कीजिये।

जुड़े रहे hindi.todaysera.com के साथ !