विराट कोहली की जीवनी, जाति, शिक्षा सहित पूरी जानकारी हिंदी में

0
876

विराट कोहली : एक इतिहास (Virat kohli information in hindi)

प्रिय मित्रो, आज हम जिस सख्सियत की चर्चा करने जा रहे है वो किसी परिचय का मोहताज़ नहीं है|5 नवम्बर 1988 को दिल्ली के एक पंजाबी परिवार में क्रिकेट के इस जादूगर का जन्म हुआ , तब किसको पता था कि ये बच्चा एक दिन इतिहास लिखेगा ये बच्चा कोई और नहीं विराट कोहली है|

उनके पिता प्रेम कोहली एक अपराधिक वकील और माता सरोज कोहली एक गृहिणी है। उन्हें एक बड़ा विकास और एक बड़ी बहन भावना भी है। उनके परिवार के अनुसार जब कोहली 3 साल के थे तभी उन्होंने क्रिकेट बैट हाथ में ली थी, और अपने पिता को बोलिंग करने कहा था।

virat kohli information in hindiImage Source: Google Images 

राजीवकुमार शर्मा ने कोहली को प्रशिक्षण दिया | 9 वी कक्षा में उन्हें सविएर कान्वेंट में डाला गया जहा इन्होने क्रिकेट के गुर सीखे ￰। खेल के साथ साथ कोहली पढाई में भी अच्छे थे|

कोहली ने जिंदगी में बहुत संघर्ष किया |18 दिसम्बर 2006 को ब्रेन स्ट्रोक की वजह से उनके पिता की मृत्यु हो गयी। अपने प्रारंभिक जीवन को याद करते हुए कोहली आज भी भावुक हो जाते  हैं|

कोहली का क्रिकेट कैरियर

कोहली सुर्खियों में आऐ जब वे अपने पिता की मृत्यु के दिन कर्नाटक के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच में दिल्ली के लिए खेल रहे थे। कोहली मलेशिया में आयोजित 2008 U/19 क्रिकेट विश्व कप में विजयी भारतीय टीम के कप्तान थे। नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए, उन्होंने 47 की औसत से 6 मैचों में 235 रन बनाए, जिसमे वेस्टइंडीज के खिलाफ शतक भी शामिल है।

virat kohli information in hindi

विराट कोहली ने 2008 में आइडिया कप में श्रीलंका के खिलाफ एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच में अपनी पहली शुरुआत की। उन्होंने अपना पहला अर्धशतक, 54 रन बनाकर 4 वें मैच में भारत को जीत दिलाई और श्रीलंका के खिलाफ पहले एकदिवसीय श्रृंखला में भारत को जीत दिला दी।

READ  अजय देवगन का जीवन परिचय

वह 2009 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में खेले और उन्हें चौथा वनडे में खेलने का मौका मिला जब श्रीलंका ने दिसंबर 2009 में भारत का दौरा किया। उन्होंने अपना पहला एकदिवसीय शतक बनाया, जिससे भारत 3-1 से सीरीज जीता।

1 जून 2010 में, विराट ज़िम्बाब्वे में जिम्बाब्वे और श्रीलंका के खिलाफ त्रिकोणीय श्रृंखला के लिए भारत का उपकप्तान घोषित किया गया ।

वह इस श्रृंखला में एकदिवसीय क्रिकेट में 1000 रन बनाने के लिए सबसे तेज भारतीय बन गए। 2010 में, वह 995 रनों के साथ भारत के अग्रणी रन-स्कोरर थे, जिसमें 25 मैचों में 47.38 की औसत से 3 शतक शामिल थे।

विराट कोहली को 2011 क्रिकेट विश्व कप में सुरेश रैना की जगह चुना गया था और वह विश्व कप में पहली बार एक शतक बनाने वाले पहले भारतीय बने। 1 जनवरी 2009 और 1 सितंबर 2011 के बीच, वह 47.47 के औसत से 1,994 रन के साथ भारत के वनडे में सबसे ज्यादा रन-स्कोरर रहे।

अगस्त 2012 में भारत-श्रीलंका श्रृंखला के अंत के बाद एकदिवसीय खिलाड़ियों के लिए आईसीसी प्लेयर रैंकिंग में कोहली को अपना सर्वश्रेष्ठ दूसरा स्थान मिला। उन्हें कोलंबो में आईसीसी के वार्षिक पुरस्कार समारोह में ओडीए क्रिकेटर ऑफ द ईयर का नाम दिया गया था।

उन्हें 2012 में ओडीआई टीम के उप-कप्तान के तौर पर नियुक्त किया गया था। 2014 में धोनी ने अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की उसके बाद उन्हें टेस्ट कप्तानी सौंप दी।

साल 2015 विश्व कप में पहले मैच में पाकिस्तान के खिलाफ विराट ने शतक लगाया. 2016 में विराट नें 5 टेस्ट मै इंग्लैंड के खिलाफ 640 रन बनाये. 2017

READ  बीरबल का जीवन परिचय - Biography of Birbal in Hindi Jivani

में विराट को आईसीसी चैम्पियन ट्राफी में कप्तानी का मौका मिला और विराट की कप्तानी में भारत फाइनल तक गया. 2017 में वेस्टइंडीज का दौरा भी अच्छा रहा.

विराट काफी शानदार खिलाडी है और लगातार अपने अच्छे प्रदर्शन के दम पर आज विराट भारतीय टीम के सबसे भरोसेमंद और टीम का अहम हिस्सा है.

विराट के बिना टीम इंडिया आधी नजर आती है. जिस तरह से सचिन तेंदुलकर अपनी टीम के मजबूत स्तम्भ थे ठीक उसी तरह विराट आज टीम के सबसे धाकड़ खिलाडी है.

virat kohli information in hindi

उपलब्धि

उन्होंने 2012 में “आईसीसी (एकदिवसीय) वनडे” प्लेयर ऑफ द इयर का पुरस्कार जीता।

वर्ष 2012 में, विराट कोहली का नाम दस बेहतरीन अंतरराष्ट्रीय पुरुष पहनावे में अंकित हुआ।

उन्हें भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार (2013) और पद्म श्री पुरस्कार (2017) से नवाजा गया।

virat kohli information in hindi

व्यक्तिगत जीवन 

2013 से अनुष्का शर्मा व कोहली के मध्य प्रेम सम्बन्ध थे।इस सम्बन्ध को मीडिया का पर्याप्त ध्यान आकर्षित किया था। आखिरकार 11 दिसम्बर 2017 को इटली के मिलान नगर में दोनों ने शादी कर ली, जिसकी पुष्टि इन दोनों ने अपने ट्विटर हैंडल पर की।

कोहली ने स्वीकार किया है कि वह अंधविश्वासी है। वह क्रिकेट में अंधविश्वास के रूप में काले रंग का धागा कलाई पर पहनते थे।

पहले वह वहीं दस्ताने पहनते थे, जिसके साथ वह अधिक रन बनाते थे। धार्मिक काले धागे के अलावा वह 2012 से अपने दाहिने हाथ पर कड़ा भी पहन रहे हैं। कुल मिलाकर कोहली का जीवन एक प्रेरणा का स्रोत है|

  •            virat kohli information in hindivirat kohli information in hindi                   
  •  
  •              विराट कोहली sign                                                                        
READ  मान्यता दत्त का जीवन परिचय | Manyata Dutt Biography in hindi
 जुड़े रहे todaysera.com के साथ !!!
Rate this post