Vivo कंपनी का मालिक कौन है ? | Vivo Ke Malik Kaun Hai

Vivo कंपनी का मालिक कौन है ? : यह सवाल हर टेक प्रेमी के ज़ेहन में आता होगा. यह सवाल आना भी लाज़मी है क्योंकि जितने कम समय में वीवो ने टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अपना सिक्का जमाया है वह शायद ही किसी से छिपा हुआ तथ्य है. वीवो (Vivo) आज एक मल्टीनेशनल कंपनी बन चुकी है. हर बड़ी कंपनी की तरह इस कंपनी के भी फाउंडर है जिन्होंने इस कंपनी की स्थापना करी.

Vivo कंपनी के मालिक

इसी तरह चीन की कंपनी वीवो कम्युनिकेशन लिमिटेड का स्वामित्व BBK इलेक्ट्रॉनिक्स नामक चीनी के पास है. Duan Yongping ही वह व्यक्ति है जिन्होंने इस कंपनी की स्थापना करी थी और इसके चेयरमैन है. वर्तमान में वह इसके चेयरमैन है. साल 1998 में दूआन योंगपिंग ने इस कंपनी को स्थापित किया था.

BBK electronics के तहत 4 टेक ब्रैंड्स आते है जो पूरे टेक मार्किट में अपना वर्चस्व बनाये रखे हुए हैं. इनमें शामिल हैं – वीवो,ओप्पो, वनप्लस, रियलमी जो अपने मिड बजट और प्रीमियम बजट एंड्राइड स्मार्टफोन के लिए जानी जाती है. हर स्मार्टफोन ब्रैंड भले ही एक दूसरे का मार्किट प्रतिद्वंदी है किन्तु उसी रणनीति के तहत एक ही कंपनी को सारे ब्रैंड्स के स्मार्टफोन्स सेल्स से मुनाफा हासिल होता है.

Vivo कंपनी के मालिक कौन है ? जानिये विस्तार में 

BBK इलेक्ट्रॉनिक्स का मुख्यालय चीन के Guangdong के करीब Dongguan में मौजूद है. Duan yongping ने Subor Electronics Industry Corporation की भी स्थापना की है. इनका जन्म 10 March 1961 को हुआ था. इनका जन्मस्थान नेनचांग, जिआंग्क्सी (Nanchang, Jiangxi) है. 1978 में उन्होंने Zhejiang University में इंजीनियरिंग कोर्स में प्रवेश हासिल किया. इसके बाद उन्होंने चीन की राजधानी बीजिंग में रेडियो ट्यूब फैक्ट्री में ट्रेनर के रूप में कार्य किया. इसके बाद उन्होंने रेनमिन यूनिवर्सिटी से एकॉनोमेट्रिक्स (econometrics) की पढ़ाई पूरी करी.

यह भी पढ़ें   भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन कौन सा है?

उनकी कुल संपत्ति कुल 1.5 अरब अमेरिकी डॉलर्स है. वह अपनी निजी ज़िन्दगी को बेहद गुपचुप रखते है इसलिए ही उनके बारे में अक्सर कयास ही लगाए जाते है मगर बहुत कुछ सावर्जनिक नहीं है. ऐसा कहा जाता है कि वह 40 साल की उम्र में ही एप्पल कंपनी की तरह ही अपनी कंपनी को भी कैलिफोर्निया में शिफ्ट करना चाहते थे.

साल 2005 तक दुआन की कंपनी घाटे में चल रही थी किन्तु उनके दो शिष्यों और उन्हीं के कंपनी जूनियर्स शेन वई और टोनी चेन ने अपनी-अपने आइडियाज से कंपनी की किस्मत पलट दी और 2015 तक कंपनी इलेक्ट्रॉनिक्स मार्किट की सरताज बन गई और आज वह टॉप की टेक कंपनियों में शुमार है. तो निश्चित तौर पर वीवो के फाउंडर और मालिक की कहानी सुनकर आप भी चकित एवं ज्ञानवर्धित हो चुके होंगे.

 

यह भी पढ़ें –

10 Lines on Rani Lakshmibai in Hindi | रानी लक्ष्मीबाई पर 10 पंक्तियां हिंदी में

error: Content is protected !!