भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है? Longest Bridge in India

दोस्तो आज हम भारत के पांच बड़े पुल कौन से हैं भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है? Longest Bridge in India, यदि आपको नही पता है तो आप जानेंगे की भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है?

भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा

मोदी जी ने देश की प्रारूपता को बदलने के लिए सत्ता में रहते हुए बहुत से बड़े बड़े काम किए हैं। इसी के साथ साथ मोदी जी ने देश को सबसे लंबा पुल का तोहफा दिया है। मोदी जी द्वारा ढोला सादिया पुल का उद्घाटन असम में ब्रह्मपुत्र नदी पर हुआ है।

भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है?: ढोला सादिया पुल

यह पुल दो शहरों को आपस में जोड़ता है। अरुणाचल प्रदेश के सादिया शहर से होते हुए यह असम के सादिया ढोला शहर तक जाता है। यह दोनों राज्यों की 165 किलोमीटर तक की दूरी आसान कर देता है। और लगभग 5 घंटे में ही दूरी तय कर लेता है। भले ही राजनीतिक कारणों से यह थोड़ा सा देरी से बना परंतु यह है अरुणाचल प्रदेश के लिए बहुत ही लाभकारी साबित होगा। 

यह पुल 2011 में बनना शुरू हुआ था और हाल ही में नरेंद्र मोदी जी द्वारा इसका उद्घाटन हुआ है। 

ढोला सादिया पुल की मुख्य विशेषताएं

  • एक समाचार एजेंसी के मुताबिक इस पुल की लंबाई 9.15 किलोमीटर एवं चौड़ाई 12.9 मीटर है। अगर देखा जाए तो इसके दोनों ओर बने संपर्क सड़कों को मिला कर इसकी कुल लंबाई 28.5 किलोमीटर है।
  • यह पुल ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी लोहित नदी पर बना है जोकि अरुणाचल प्रदेश और असम के राज्य को आपस में जोड़ता है। 
  • पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के अनुसार इसका निर्माण 2011 में शुरू किया गया था जिस पर 2,056 करोड़ की लागत लगी है। यह पुल नवीन इंजीनियरिंग कंपनी के द्वारा बनाया गया है।
  • यदि मैंने स्ट्रिंग शिपिंग की बात करें तो उसके अनुसार यह पुल पूर्वोत्तर इलाके में कनेक्टिविटी की एक बड़ी समस्या को काफी हद तक हल करेगा। इससे पहले तक केवल नाव से आवागमन हुआ करता था। जो कि कुछ समय जैसे कि बारिश के समय में रुक जाता था। और नाव केवल दिन में ही चला करते थी।
  • मिनिस्ट्री के अनुसार इस पुल के बनने के बाद लगभग हर दिन ₹10 लाख रुपए तक की डीजल और पेट्रोल की बचत होगी।
  • यह पुल भूकंप को देखते हुए पूर्वोत्तर इलाके में बड़ी ही समझदारी के साथ बनाया गया है इसमें भूकंप को झेलने के लिए 182 पिलर लगाए गए हैं। 
  • यह पुल 60 टन तक के ट्रक के वजन को झेल सकता है।
  • इस पुल को बनाने के लिए इंपॉर्टेंट हाइड्रॉलिक का इस्तेमाल हुआ है। जिसके चलते इसमें थोड़ी देरी हुई यह है पुल 2015 में बनकर तैयार होना था। जिसमें 2 साल से ज्यादा लग गए और यह 2017 में बनकर तैयार हुआ।

आइए जानते हैं भारत के 5 बड़े पुल कौन से हैं?

महात्मा गांधी पुल: यह पुल देश का दूसरा बड़ा पुल है। यह पुलिस भारत के बिहार में स्थित है जो कि गंगा नदी पर बना हुआ है महात्मा गांधी पुल की लंबाई 5.6 किलोमीटर है। यह पुल पटना से हाजीपुर की दूरी को तय करता है।

बांद्रा वर्ली सी लिंक: यह पुल भारत का तीसरा लंबा पुल है। इस पुल की लंबाई 5.57 किलोमीटर की है। यह पुल राजीव गांधी सीलिंग पुल के नाम से भी देश भर में जाना जाता है। यह पूरी बांद्रा से लेकर वर्ली तक जाता है। यह पुल महाराष्ट्र में है।

विक्रमशिला सेतु:- यह पुल भारत के चौथे बड़े पुल में गिना जाता है। स्कूल की लंबाई 4.7 किलोमीटर की है। विक्रमशिला सेतु गंगा नदी पर बना हुआ, बिहार में स्थित है। यह पुल बरारी घाट से होते हुए नवगछिया की दूरी को तय करता है।

वेंबनाद रेल ब्रिज: यह भारत का पांचवा बड़ा पुल है जो कि एक रेल पुल है। इस पुल की लंबाई 4.62 किलोमीटर की है। यह फूल खिला में स्थित है जोकि ब्रा पर्ली से मलार पदम को जोड़ता है।

आज की पोस्ट के माध्यम से आपने जाना कि भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है। और आपको इस पोस्ट के द्वारा हमने आपको भारत का सबसे बड़ा पुल कौन सा है। के बारे में भी बताया। आशा करते है की आपने इस पोस्ट के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की होगी।

ऐसे ही सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारियों को प्राप्त करने के लिए जुड़े रहिए हमारी वेबसाइट hindi.todaysera.com के  साथ।

READ  श्रीलंका की राजधानी क्या है? Shri lanka ki Rajdhani
error: Content is protected !!