केरल की राजधानी क्या है? Keral ki Rajdhani

0

दोस्तों क्या आपको पता है कि केरल की राजधानी क्या है? यह एक Hindi G.K. का बहुत ही महत्वपूर्ण का सवाल है|

केरल भारत में दक्षिण-पश्चिम समुद्री तट से लगा हुआ एक प्राकृतिक सुंदरता से परिपुर्ण राज्य है। इसकी राजधानी तिरुवनंतपुरम है। यहाँ विशेषतः मलयालम भाषा बोली जाती है। प्रकृति से हरे-भरे इस राज्य में लौंग, इलायची,जावित्री,सुपारी व अन्य भी कई सारे मसालों में उपयोग होने वाली चीज़े प्राकृतिक रूप में पाई जाती है।

केरल की राजधानी क्या है

यहाँ के धार्मिक समुदाय की अगर बात करें तो यहाँ हिन्दुओ और मुसलमानों के साथ-साथ ईसाई धर्म के लोग भी बड़ी संख्या में निवास करते है और इस राज्य का क्षेत्रफल ३८८६३ वर्ग किलोमीटर है।

केरल की राजधानी: तिरुअनन्तपुरम

भारत की स्वतंत्रता से पहले केरल कई रियासतों में बंटा हुआ था किन्तु स्वतंत्रता के बाद सभी रियासतों के राजाओं की आपसी सहमति से इन रियासतों का आपस में विलय करके जुलाई १९४९ ‘तिरुकोच्ची’ नाम के राज्य का गठन हुआ।वर्त्तमान के राज्य तमिलनाडु जो पूर्व में मद्रास था इसका एक जिला जो मालाबार नाम से था उसको १९५६ में तिरुकोच्ची के साथ मिलाकर पूर्ण केरल राज्य बनाया गया और इसकी राजधानी तिरुवनंतपुरम को बनाया गया जिसे आप और हम वर्त्तमान में जानते है।केरल राज्य में कुल १४ जिले है।

हमारे देश का कोई ही ऐसा व्यक्ति होगा जो ये नहीं जनता होगा की साक्षरता की दृष्टि से केरल राज्य कितना महत्वपूर्ण है क्यूंकि भारत देश की सबसे ज्यादा साक्षरता दर वाला राज्य केवल केरल ही है और ये केवल आज से ही नहीं है हाई स्कूल की सामाजिक विज्ञान की पुस्तक में हम में से कई लोगों ने यह पढ़ा भी है। और जब राज्य इतना साक्षर है तो आपको हम बता दें की यह राज्य सामाजिक-न्याय, स्वास्थय-स्तर,स्त्री-पुरुष समानता या लिंगानुपात,कानून का पालन  करना और शिशु-मृत्यु दर इन सभी मुद्दों में सबसे बेहतर है। दीर्घकाल से चला आ रहा विदेशी व्यापर, विज्ञान और कला इन क्षेत्रों में भी केरल खुद को गौरवान्वित महसूस करता है।

READ  भारत की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील कौन सी है? Biggest human made lake in India

What is the Capital of Keral: Thiruvananthapuram

अरब सागर और सह्याद्रि पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य एक बहुत ही  खूबसूरत भूभाग केरल पर्यटन के लिए भी एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है क्यूंकि यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता सबको अपनी और आकर्षित कर ही लेती है। आज की  युवा पीढ़ी की भी चाहे वो किसी भी राज्य के क्यों न हो केरल एक पसंदीदा पिकनिक स्पॉट है। यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता का राज ये भी है की यह अति वृष्टि क्षेत्र भी है जिससे यह प्रदेश जल और प्रकृति से समृद्ध है। यहाँ की जलवायु, यातायात की बेहतर सुविधायें और सांस्कृतिक परम्पराओं ने इस राज्य को पर्यटन के लिए और भी सुगम्य बनाया है।

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम शहर जिसे त्रिवेंद्रम भी कहते है मंदिर, मस्जिद और चर्चों का केंद्र है इसका कोवलम समुद्र तट दुनिया भर में प्रसिद्ध है,कोवलम बीच रिसोर्ट ,वेली, नेयर बांध और पोमुडी यहाँ के प्रसिद्ध दार्शनिक स्थल है।इडुक्की जिले में पेरियार वन्य जीव अभयारण्य है जो वन्य जीव प्रेमियों का विशेष पर्यटन केंद्र है। सबरीमाला जिसे भगवान अयप्पन का निवास कहते है पथनमथिट्ठा जिले का विश्वप्रसिद्ध तीर्थ स्थान है।केरल का प्रसिद्ध बंदरगाह कोच्चि अरब सागर की रानी माना जाता है।

शंकराचार्य जी का जन्म स्थान कलादी जो की इसी राज्य में है।कलामंडलम त्रिसूर जिले का प्रसिद्ध कथकली नृत्य केंद्र है ।विक्रम सारा भाई अंतरिक्ष केंद्र और राजीव गाँधी जैव प्रौद्योगिकी केंद्र तिरूवन्तपुरम के भारत में जाने माने शिक्षण संस्थान है भारत के दक्षिण-पश्चिम तट पर बसे इस नगर को महात्मा गाँधी जी द्वारा सदाबहार नगर की संज्ञा दी गई है। केरल को प्रकृति का अद्भुत वरदान है तो इन सबके  संयोग से बना हस्थ-शिल्प भी विशेष रूप से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है यहाँ बाजारों में यहाँ के पारम्परिक हस्तशिल्प जैसे तांबे का सामान, बांस का फर्नीचर हर कोई बड़ी संख्या में ले जाते है।

READ  भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन कौन सा है?

कथकली के मुखोटे और परिधान यहाँ आसानी से बाज़ारों में उपलब्ध है।सरकारी दुकानों के साथ-साथ, चलाई बाजार, कोन्नेमारा बाजार, पावन हाउस रोड मार्किट, एम.जी.रोड, अट्टुकल शॉपिंग काम्प्लेक्स, नर्मदा शॉपिंग काम्प्लेक्स से भी खरीदारी कर सकते है,और विशेष बात यह की यहाँ रविवार बाजार नहीं खुलता है।

ये था केरल और इसकी राजधानी तिरुवनंतपुरम।

दोसतों उम्मीद है की केरल की राजधानी क्या है। Keral ki Rajdhani के बारे में पढ़ कर  आपको ख़ुशी हुई होगी।

जुड़े रहे hindi.todaysera.com के साथ !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here