महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र | Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat

स्वच्छता पर बापू (महात्मा गाँधी) को पत्र | Write a Letter to Mahatma Gandhi (Bapu) About Swachh Bharat In Hindi

दोस्तों  आज हम महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat के बारे में जानेंगे,  यदि आपको नही पता है कि महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat कैसे लिखा जाता है तो हम आपको बता देते है महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat कैसे लिखें।

महात्मा गांधी जी एक ऐसे महान आत्मा थे, जिनके बारे में हम जितना गुणगान करें उतना ही कम होगा। अपने समय में उन्होंने ऐसी बड़े-बड़े कार्य किए हैं। जिनकी आज के समय के लोग कल्पना भी नहीं कर सकते देश को आजादी दिलाने में गांधी जी का अत्यधिक योगदान रहा था।

जैसा कि हम सभी जानते हैं गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर को हुआ था एवं वह पढ़ाई में भले ही आ वरना आते हैं परंतु अपने जीवन काल में अपने कार्यों हमें हमेशा अव्वल रहे हैं। गांधी जी ने हमेशा ही लोगों को सत्य की राह पर चलना सिखाया है। और हमेशा ही अहिंसा का पाठ पढ़ाया है।

गांधीजी को प्यार से लोग बापू कह कर पुकारते थे। बापू ने अपना पूरा जीवन जनता पर किया था। उन्होंने लोगों के लिए बहुत से आंदोलन किए और वह उन में सफल रहे। जब बापू दक्षिण अफ्रीका पढ़ने के लिए गए, तो उन्होंने वहां रंगभेद खत्म करने के लिए आंदोलन किया जिसमें वह सफल रहे। तब भारत वापस आने के बाद बहुत से बड़े नेताओं ने उनका स्वागत किया।

READ  FD बंद करवाने के लिए प्रार्थना पत्र। Closing Application of FD Hindi

महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र

अपनी पढ़ाई पूरी होने के बाद गांधी जी ने बहुत से सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। बिहार के किसानों के लिए बहुत बड़ा आंदोलन किया जिसमें ब्रिटिश द्वारा करवाई जा रही नील की खेती के लिए किसानों को मुक्ति दिलवाई।

गांधीजी का सबसे बड़ा आंदोलन सत्याग्रह आंदोलन माना जाता है। जिसमें 200 मील चलकर उन्होंने नमक ना बनाने के ब्रिटिश कानून को तोड़ दिया था। इसके बाद बापू ने भारत छोड़ो आंदोलन का निर्वाहन किया जिसमे वह सफल रहे।

इसी के साथ-साथ बाबू स्वच्छता पर भी अपने विचार प्रकट करते थे। उनका मानना था, यदि आपका आस-पड़ोस स्वच्छ नहीं होगा, तो आपका मन भी सोच नहीं होगा। गांधी जी का कहना था कि किसी के लिए गंदगी ना फैलाएं एवं दूसरों की गंदगी भी साफ करें इससे आपके चरित्र में वृद्धि होगी।

साबरमती में गांधीजी खुद अपने पेड़ पौधों की एवं साफ सफाई का ध्यान रखा करते थे। बापू जिस बस्ती में रहा करते थे, उस बस्ती के साथ-साथ आसपास की सभी बस्तियों में साफ सफाई के लिए बापू ने बड़ा योगदान दिया। बापू ने स्वच्छता को लेकर बहुत से प्रचार प्रसार भी किए।

गांधी जी का कहना था कि राजनीतिक स्वतंत्रता से साधन स्वच्छता जरूरी है। बापू का यह भी मानना था कि यदि कोई व्यक्ति स्वच्छ नहीं है तो वह स्वस्थ नहीं रह सकता। हर किसी को अपनी कूड़ेदान को साफ रखना चाहिए एवं अपने शौचालय को ड्राइंग रूम की तरह साफ रखना चाहिए यही गांधीजी का विचार था। गांधीजी का यह भी मानना था कि, अपनी गलती को स्वीकार स्वीकार करना झाड़ू लगाने के बराबर है। जैसे झाड़ू लगाने से सच है साफ-सुथरी हो जाती है वैसे ही अपनी गलती स्वीकार कर लेने से मन भी स्वच्छ हो जाता है।

READ  पिताजी को पत्र | Letter to father in hindi

तो आइए अब जानते हैं कि स्वच्छता पर बापू को पत्र कैसे लिखें?

महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र

B ब्लॉक ,

रजौरी गार्डन,

नई दिल्ली (आपका पूरा पता)

दिनांक: 22/01/2020

प्रिय बापू (गांधी जी),

आपने हमेशा ही दुनिया भर के लोगों को स्वच्छता स्वतंत्रता अहिंसा का पाठ पढ़ाया है। यह न केवल प्रत्येक भारतीय नागरिक बल्कि विश्व के नागरिकों को भी बहुत बड़ी सीख देता है। आपने जिस बहादुरी के साथ बड़े बड़े आंदोलनों का आयोजन किया एवं बढ़-चढ़कर देश को आजादी दिलाने में अपना योगदान दिया वह सच में ही प्रशंसा के योग्य है।

बापू आपके हर प्रकार के गुण बहुत ही सीख देने वाले थे परंतु मुझे जो सबसे ज्यादा गुण प्रभावित करता है वह है स्वच्छता।

स्वच्छता के लिए आपने बहुत से बड़े बड़े कदम उठाए, बड़े देशों में ही नहीं बल्कि, पिछड़े दूरदराज गांवों तक भी आपने स्वच्छता का पाठ पढ़ाया। और बहुत से लोगों को जागरूक किया।

स्वच्छता के अभियान को लेकर आज भी लोगों में वही जागरूकता देखी जाती है इस जागरूकता को लोगों के बीच में लाने के लिए मैं आपका जितना भी धन्यवाद करूं वह कम होगा।

इस पत्र के माध्यम से मैं आपको दिल से नमन करता/करती हूं, एवं धन्यवाद करता/करती हूं।

और मैं आपसे वादा करता/करती हूं कि हमेशा ही अपने जीवन में निस्वार्थ एवं निष्काम भाव से स्वच्छता के इस अभियान को आगे बनाऊंगी/ बढ़ाऊंगा।

भवदीय

सुमित/सुमित्रा (आपका नाम)

 

आज की पोस्ट के माध्यम से आपने जाना कि महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat और आपको इस पोस्ट के द्वारा हमने आपको महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat के बारे में भी बताया। आशा करते है की आपने इस पोस्ट के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त की होगी।

READ  विषय परिवर्तन हेतु प्रधानाचार्य को प्रार्थना-पत्र | Application for Subject Change in hindi

इस पोस्ट की जानकारी आप अपने Friends को भी दे। तथा Social Media पर भी यह पोस्ट महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat ज़रुर Share करे। जिससे और भी ज्यादा लोगों के पास यह जानकारी पहुँच सके।

हमारी पोस्ट महात्मा गांधी को स्वच्छता पर पत्र Letter To Gandhi Ji About Swwach Bharat में आपको कोई परेशानी है या आपका कोई सवाल है, इस पोस्ट के बारे में तो Comment Box में Comment करके हमसे पूछ सकते है। हमारी Team आपकी Help ज़रुर करेगी।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई है तो इस पोस्ट को फेसबुक, Instagram और Pintrest पे share करें|

ऐसे ही रोजाना जानकारी पाने के लिए जुड़े रहे hindi.todaysera.com/ के साथ।

error: Content is protected !!