हीलियम और उसके गुण (Helium and It’s Properties)

हीलियम (हीलियम गैस के गुण)

हीलियम एक न्यूट्रल गैस है इसे नोबल गैस (Nobel gas) की केटेगरी में रखा गया है। नोबल गैस का अर्थ है वे गैसेस जो किसी भी वस्तु के साथ रिएक्ट नहीं करती। आसान तौर पर समझा जाए तो ग्रुप 18 में आने वाली सारी गैसेस नॉन रिएक्टिव ही होती हैं।

वैश्विक स्तर पर हीलियम दूसरे नंबर पर सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला एलिमेंट है। हाइड्रोजन के बाद हीलियम ही सबसे अधिक पाया जाने वाला एलिमेंट है। हीलियम की खोज सबसे पहले सूरज में हुई थी। पिएरे जैसें ने हीलियम की खोज सूरज से की।

हीलियम की बहुत सी भौतिक और रासायनिक गुण हैं जिनके बारे में हम आगे पढेंगें।

हीलियम एक हलकी गैस है जिसे गुब्बारों में भरा जाता है। साथ ही इसका इस्तमाल राकेट फ्यूल्स और लीड डिटेक्शन सिस्टम में भी किया जाता है।

पृथ्वी के अंदर रेडियोएक्टिव तत्वों के टूटने पर हीलियम गैस बाहर निकलती है।

स्वास्थ्य पर हीलियम गैस का प्रभाव

1. आवाज का भारी होना।
2 . सिर दर्द होना।
3 . शरीर का भारी लगना और बहुत आलस का एहसास होना।
4 . बहुत कम मात्रा में हीलियम खून में पाई जाती है।
5. हीलियम स्वादरहित, रंगरहित और सुगंधरहित गैस है।
6. हीलियम का बोइलिंग पॉइंट और फ्रीजिंग पॉइंट आम तौर पर पाई जाने वाली कई गैसों से अलग होता है।
7. हीलियम ही एक ऐसी गैस है जिसे मूल दबाव पर ठंडा करने से सख्त नहीं किया जा सकता। इसे कठोर करने के लिए कम से 25 atm का दबाव और 1 K का तापमान आवश्यक है।

यह भी पढ़ें   What is Resonance Effect in Chemistry in Hindi? | अनुनाद प्रभाव क्या होता है?

A gaseous chemical element, symbol: He

atomic number: 2

atomic weight 4,0026 g/mol

Source: https://www.lenntech.com/periodic/elements/he.htm#ixzz6OggLlMzo

खोज और नामांकन (Discovery & Naming )

हीलियम की खोज स्पेक्ट्रोमीटर से किया गया था। जैसें ने सूरज की किरणों को स्पेक्ट्रोमीटर से जांच कर हीलियम गैस की खोज की। ये खोज सोलर एक्लिप्स के दौरान की गई थी। सूरज और पृथ्वी के बीच चाँद के आने पर सोलर एक्लिप्स (Solar Eclipse) हो जाता है।

सूरज से खोजे जाने की वजह से “helios” से हीलियम शब्द को निकाला गया है।

हीलियम एक रंगहीन, गंधहीन और बेस्वाद गैस है।

पृथ्वी पर सभी तत्वों का सबसे कम क्वथनांक (-268.9 डिग्री सेल्सियस) है।

केवल तापमान कम करने तक हीलियम को ठोस नहीं किया जा सकता है। हीलियम गैस के जमने के लिए दबाव कम करना एक और बड़ी आवश्यकता है।
-271 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर सेलिसियस हीलियम एक असामान्य परिवर्तन से गुजरता है। हीलियम एक पूरी तरह से अक्रिय यौगिक है यह अपने आस-पास किसी भी पदार्थ के साथ प्रतिक्रिया नहीं करता है।

हीलियम पृथ्वी पर छठी सबसे प्रचुर गैस है। यह हाइड्रोजन के बाद पृथ्वी पर दूसरा सबसे प्रचुर तत्व है। ब्रह्मांड में कुल परमाणुओं का 11.3 प्रतिशत हीलियम है।
88.6% परमाणु हाइड्रोजन हैं और उनमें से बाकी हीलियम हैं। सभी परमाणुओं का 99.9 प्रतिशत हाइड्रोजन और हीलियम है।

हीलियम के दो समस्थानिक स्वाभाविक रूप से होते हैं, हीलियम -3 और हीलियम -4। आइसोटोप एक तत्व के दो या अधिक रूप हैं। आइसोटोप अपने द्रव्यमान संख्या के अनुसार एक दूसरे से भिन्न होते हैं। तत्व के नाम के दाईं ओर लिखा गया संख्या द्रव्यमान संख्या है। द्रव्यमान संख्या तत्व के एक परमाणु के नाभिक में प्रोटॉन प्लस न्यूट्रॉन की संख्या का प्रतिनिधित्व करता है। प्रोटॉन की संख्या तत्व को निर्धारित करती है, लेकिन किसी एक तत्व के परमाणु में न्यूट्रॉन की संख्या भिन्न हो सकती है। प्रत्येक भिन्नता एक समस्थानिक है।

यह भी पढ़ें   ग्लूकोज क्या है? | Glucose Ka Formula| ग्लूकोज का फार्मूला

हीलियम के तीन रेडियोधर्मी समस्थानिक भी बनाए गए हैं। एक रेडियोधर्मी आइसोटोप वह है जो अलग हो जाता है और विकिरण के कुछ रूप को बंद कर देता है। रेडियोधर्मी समस्थानिक तब उत्पन्न होते हैं जब बहुत छोटे कणों को परमाणुओं में निकाल दिया जाता है। ये कण परमाणुओं में चिपक जाते हैं और उन्हें रेडियोधर्मी बना देते हैं।

हीलियम के रेडियोधर्मी समस्थानिकों में से किसी का भी कोई व्यावसायिक अनुप्रयोग नहीं है

  हीलियम गैस के उपयोग (Helium Uses) 

आप विभिन्न रूपों में रोजमर्रा की जिंदगी में इस्तेमाल होने वाली हीलियम पा सकते हैं। इसका उपयोग लिफ्टिंग एजेंट के रूप में, पार्टी के गुब्बारे में, डाइविंग मिश्रण में और ऑप्टिकल फाइबर में किया जाता है। वेल्डर निर्माण में वेल्डिंग आर्क्स के लिए हीलियम का उपयोग करते हैं। फेफड़े और दिल की प्रक्रियाओं के रोगियों की मदद करने के लिए चिकित्सक और सर्जन हीलियम का उपयोग करते हैं।

जब आप किराने की दुकान पर जाते हैं, और आपकी किराने का सामान स्कैन किया जाता है, तो आप संभवत: हीलियम-नियोन लेजर देख रहे हैं। यदि आपको कभी एक ब्लींप नौकायन ओवरहेड दिखाई देता है, तो आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि इसे हीलियम द्वारा अलग रखा गया है। देखें कि क्या आप रोज़मर्रा की ज़िंदगी में हीलियम के इस्तेमाल को अपने दिन के बारे में बता सकते हैं।

सभी नोबल गैसेस का ओकटेट यानि बाहरी शेल इलेक्ट्रान से पूरा होता है। इसके कारण वे किसी भी और गैस के साथ रिएक्शन नहीं करती हैं।

ये ठीक उसी प्रकार से आसानी से समझा जा सकता है जैसे कि कोई खाली व्यक्ति दूसरों से ज्यादा बातें करता है। जब आपके पास अधिक काम हो और आपके विचार कहीं और सलंग्न हों तब आप किसी के भी साथ रिएक्ट करने यानि बातचीत में बहुत अधिक रुचि नहीं लेते हैं।

यह भी पढ़ें   आदर्श विलयन तथा अनादर्श विलयन क्या होते हैं ? इनमे मुख्यअंतर क्या है?

 

error: Content is protected !!