डायलिसिस क्या होती है? | Dialysis Kya Hota Hai In Hindi |

डायलिसिस कैसे होता है, कैसे करते हैं, सावधानियां,  Dialysis Information in Hindi

दोस्तो आज हम डायलिसिस क्या होती है? (Dialysis Kya Hota Hai In Hindi) के बारे में पढ़ेंगे।सात ही डायलिसिस के अर्थ और इसके प्रकार के बारे में भी पढ़ेंगे। यहाँ आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

डायलिसिस – Dialysis In Hindi

हम 21 वीं सदी उन्नत मनुष्य हैं। इस सदी को विज्ञानं की साड़ी से भी जाना जाता हैं। विज्ञानं ने हम मनुष्यों की ज़िन्दगी काफी आराम दायक बना दी हैं। विज्ञानं ने वो कर दिखाया है जो शायद पहले मनुष्य सोच भी नही सकता था। हम आज एक देश से दूसरे देश, यहाँ तक की अलग-अलग महाद्विपो तक अपने रिस्तेदारों से मोबाइल फोन पर बात कर सकते हैं।

डायलिसिस क्या है, प्रकार, उपचार प्रक्रिया, कीमत, फायदे और आहार योजना

हम टेलीविज़न होने के कारन कभी ऊबते नही। यह सभ चीजें मनुष्यों को विज्ञानं से प्राप्त हुई हैं। विज्ञानं ने मनुष्य को मोबाइल फोन, टेलीविज़न, ए. सी., पंखे, रौशनी आदि से नवाजा हैं। परंतु आज हम जिसके बारे में चर्चा करेंगे वह विज्ञानं की एक ऐसी अद्बुत मशीन हैं, जिससे डॉक्टरों वः मरीजों को काफी फायदा हुआ हैं।

इस अद्बुत मशीन का नाम डायलिसिस हैं। चिकित्सा के रूप में कहा जाए तो, डायलिसिस, मरीजों के रक्त से अतिरिक्त पानी, विलेय और विषाक्त पदार्थों को हटाने की प्रक्रिया कही जाती है, यह उन्हें करवाया जाता है जिनके गुर्दे अब इन कार्यों को स्वाभाविक रूप से करने में असमर्थ हैं। इसे हम रीनल रिप्लेसमेंट थेरेपी के रूप में भी जानते है।

डायलिसिस का उपयोग

डायलिसिस का उपयोग गुर्दे के कार्य के तेजी से विकसित होने वाले नुकसान के रोगियों में किया जाता है, जिसे तीव्र गुर्दे की चोट, या धीरे-धीरे बिगड़ती हुई गुर्दे की क्रिया, जिसे स्टेज पाँच का क्रोनिक किडनी रोग भी कहा जाता है।

डायलिसिस का ज़्यादातर उपयोग किडनी प्रत्यारोपण में या फिर किडनी ट्रांसप्लांट की प्रतीक्षा कर रहे मरीजों में यह एक अस्थायी इलाज़ के रूप में किया जाता है तथा और उन मरीजों में स्थायी उपाय के रूप में किया जाता है जिनके लिए ट्रांसप्लांट का संकेत दिया गया है या संभव नहीं हो सकता। सन 1913 में, जॉन्स हॉपकिन्स अस्पताल के डॉक्टर लियोनार्ड रौनट्री और जॉन एबेल ने पहली डायलिसिस प्रणाली विकसित करने में कामयाब हो गए, जिसे उन्होंने जानवरों के ऊपर परीक्षण किया।

परन्तु फिर एक डच चिकित्सक, विलेम जोहान कोल्फ ने सन 1943 में नीदरलैंड में नाजी कब्जे में होने के बावजूद भी पहला काम करने वाला डायलाइज़र का निर्माण किया था। कुछ देशों में यह डायलिसिस की प्रकिर्या हॉस्पिटलों में बिना किसी मूल्य देने पर हो जाता हैं। इंग्लैंड में यह सेवा एन.एछ.एस इंग्लैंड द्वारा कार्यशील की जाती है।

प्रत्येक वर्ष लगभग 23,000 रोगी सेवा का उपयोग करते हैं।अच्छा स्वास्थ्य को बनाए रखने में हमारे गुर्दे की एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। जब व्यक्ति स्वस्थ होता है, तो गुर्दे पानी और खनिजों को शरीर के आंतरिक संतुलन बनाए रखते हैं। एसिडिक मेटाबॉलिज्म और प्रॉडक्ट्स जिसे हमारा शरीर सांस के जरिए असमर्थ होता है, उन्हें भी हम अपने किडनी के जरिए बाहर निकाला सकते है।

डायलिसिस अर्ध

डायलिसिस अर्ध-पारगम्य झिल्ली में विलेय और द्रव के अल्ट्राफिल्ट्रेशन के प्रसार के सिद्धांतों पर काम करता है। डायलिसिस के प्रमुक्त दो मुख्य प्रकार, हेमोडायलिसिस और पेरिटोनियल डायलिसिस हैं, अलग अलग तरीकों से रक्त से अपशिष्ट और अतिरिक्त पानी निकालते हैं।

हेमोडायलिसिस एक बाहरी फिल्टर के सहारे से हमारे शरीर के बाहर रक्त को प्रसारित करके अपशिष्ट और पानी को निकालता है, जिसे डायलाइज़र कहा जाता है, जिसमें एक अर्धवृत्ताकार झिल्ली भी होती है। पेरिटोनियल डायलिसिस में, पेरिटोनियम के उपयोग से शरीर के अंदर रक्त से अपशिष्ट और पानी को हटा दिया जाता है, जो प्राकृतिक अर्धचालक झिल्ली के रूप में भी होता है।

डायलिसिस के कुल तीन प्राथमिक और दो माध्यमिक प्रकार हैं

  • हेमोडायलिसिस
  • पेरिटोनियल डायलिसिस
  • हेमोफिल्ट्रेशन और आंतों का डायलिसिस।

हेमोडायलिसिस में, रोगी के रक्त को डायलाइज़र के रक्त डिब्बे के माध्यम से पंप किया जाता है, जो इसे आंशिक रूप से पारगम्य झिल्ली को उजागर करता है। डायलाइज़र कई हजारों छोटे-छोटे खोखले सिंथेटिक फाइबर का बना होता है। फाइबर की दीवार अर्धवृत्ताकार झिल्ली के रूप में कार्य करती है। तंतुओं के माध्यम से रोगी का रक्त बहता है, डायलिसिस समाधान तंतुओं के बाहर चारों ओर बहता है, और पानी और अपशिष्ट इन दो समाधानों के बीच चलते हैं। साफ किया गया रक्त फिर सर्किट के सहारे से मरीज के शरीर में वापस आ जाता है।

पेरिटोनियल डायलिसिस में, एक बाँझ समाधान जिसमें ग्लूकोज एक ट्यूब के सहारे से पेरिटोनियल गुहा, आंत के चारों ओर पेट के शरीर के गुहा में चलाया जाता है, जहां पेरिटोनियल झिल्ली आंशिक रूप से पारगम्य झिल्ली के रूप में कार्य करता है। पेरिटोनियल डायलिसिस हेमोडायलिसिस की तुलना में कम कुशल है, परंतु क्योंकि यह लंबे समय तक किया जाता है, ताकि अपशिष्ट उत्पादों और नमक और पानी को हटाने के मामले में शुद्ध प्रभाव हेमोडायलिसिस के समान हो।

हेमोफिल्ट्रेशन, हेमोडायलिसिस का ही एक तरह का समान उपचार है, परन्तु यह एक अलग सिद्धांत का उपयोग करता है। डायलिसिस के रूप में मरीज के रक्त को डायलाइज़र या “हेमोफिल्टर” के माध्यम से पंप किया जाता है, परंतु इस में किसी भी डायलीसेट का उपयोग नहीं किया जाता है। एक दबाव ढाल लागू किया जाता है; परिणाम स्वरूप, पानी बहुत पारगम्य झिल्ली में तेजी से आगे बढ़ता है, इसके साथ घसीटता है इसके साथ कई भंग पदार्थ, जिनमें बड़े ही आणविक भार भी शामिल रहते हैं, जो हेमोडायलिसिस द्वारा भी साफ नहीं किया जा सकता।

हेमोडायफिल्ट्रेशन एक नया रूप, जो हेमोडायलिसिस और हेमोफिल्ट्रेशन का एक संयोजन है, इस प्रकार विषाक्त पदार्थों से मरीजों के रक्त को शुद्ध करने के उपयोग किए जाते है जब किडनी सामान्य रूप से काम नहीं कर रही है और तीव्र गुर्दे की चोट का इलाज करती है।

यह सभ मशीन होने के कारन आज कई मनुष्य जिन्दा और अपनी जिंदगी जी पा रहे हैं। भारत देश में भी किडनी से जुडी बिमारियों जैसे डायलिसिस का इलाज कई जगहों पर मुफ्त में किया जाता हैं।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई है तो इस पोस्ट को फेसबुक, Instagram और Pintrest पे share करें|

ऐसे ही रोजाना जानकारी पाने के लिए जुड़े रहे hindi.todaysera.com/ के साथ।

error: Content is protected !!