रविन्द्र जडेजा रवींद्र जीवनी | Ravindra Jadeja Biography In Hindi

दोस्तो आज हम रविन्द्र जडेजा का जीवन परिचय (Ravindra Jadeja Ka Jeewan Parichay) के बारे में पढ़ेंगे। यदि आपको नही पता है तो यहाँ आपको पूरी जानकारी मिलेगी। रविन्द्र जडेजा भारतीय टीम के शानदार फील्डर माने जाते हैं |

रविन्द्र जडेजा- भारत का बेहतरीन फील्डर

रविन्द्र जडेजा का जीवन परिचय

क्रिकेट में कहा जाता है कि जब गेंद रविन्द्र जडेजाके पास गई हो रन लेते समय सावधान रहें क्योंकि जडेजा भारत के सबसे श्रेष्ठतम फील्डरों में से एक है और वो किसी भी जगह से स्टंप पर डायरेक्ट थ्रो मारने में माहिर है। निरंतर रूप से बढ़िया प्रदर्शन करने के कारण इस समय जडेजा भारत की तीनों टीम टेस्ट, एकदिवसीय और T-20 टीम का हिस्सा हैं और हिस्सा होने के साथ ही वो मैदान पर अलग ही चुस्ती दिखाते है। रविन्द्र जडेजा बायें हाथ के बल्लेबाज और बायें हाथ के स्पिनर है।

नामरविन्द्र जडेजा
उप-नामजड्डू, सर जडेजा
जन्म तारीख6 दिसंबर 1988
उम्र(2020 में)32 साल
कद5.7 फीट
वजन60 kg
जन्म स्थानजामनगर, गुजरात
राष्ट्रीयताभारतीय
परिवारमाता : स्वर्गीय लता जडेजा   पिता: अनिरुद्धसिंह जडेजा
भाई:ज्ञात नहीं
बहन: नैना
पत्नी:रिवाबा सोलंकी
धर्महिन्दू
गृह नगरजामनगर, गुजरात
वर्त्तमान शहरजामनगर, गुजरात
आँखों का रंगकाला
बालों का रंगकाला
पेशाक्रिकेटर
जातीयदुवंशी राजपूत
शौकघुड़सवारी, तेज़ कार चलाना
खिलाफ खेलना पसंद करते हैपाकिस्तान
कमाई38 लाख
सालाना कमाई4 करोड़ 56 लाख

रविन्द्र जडेजा की निजी जिंदगी

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Ravindra Jadeja (@royalnavghan) on

 

रविंद्र जडेजा का पूरा नाम रविंद्र सिंह अनिरुद्ध सिंह जडेजा है और इनका जन्म 6 दिसंबर 1988 को सौराष्ट्र के जामनगर में हुआ था। जडेजा के पिता अनिरुद्ध सिंह जो एक निजी कंपनी में वॉचमैन थे, वो अपने बेटे को एक सेना का अधिकारी बनाना चाहते थे लेकिन जडेजा खुद एक क्रिकेट बनने का ख्वाब पाल रहे थे लेकिन जडेजा अपने पिताजी से काफी डरते थे।

जडेजा की माताजी का देहांत एक एक्सीडेंट में हो गया था जिससे जडेजा को काफी धक्का पहुंचा और उन्होंने एक समय क्रिकेट ना खेलने का फैसला ले लिया था लेकिन पिताजी और बहन के प्रोत्साहन करने के बाद उन्होंने फिर से क्रिकेट खेलने का निर्णय किया और इस समय वो अंतराष्ट्रीय क्रिकेट के बेहतरीन फील्डरों में से एक है। जडेजा की शादी 17 अप्रैल 2016 को रीवा सोलंकी से हुई।

रविन्द्र जडेजा इंस्टाग्राम अकाउंट: instagram.com/royalnavghan

रविन्द्र जडेजा की क्रिकेट शुरुआत

जडेजा को पहली बार अंडर-19 की प्रतियोगिता में खेलने के मौका 2005 में मिला जब वो केवल 16 वर्ष के थे, 2006 में उनका चयन अंडर-19 विश्व कप जो श्रीलंका में होना था, उसके लिए टीम इंडिया मे हुआ था। उस विश्व कप को भारत जीत तो नही पाया लेकिन फाइनल में जडेजा ने जबरदस्त गेंदबाजी की, जब उन्होंने फाइनल में 3 विकेट झटके।

जडेजा का दुबारा अंडर 19 विश्व कप जो 2008 में हुआ था, के लिए चयन हुआ था और इस बार वो टीम के उप-कप्तान थे और उनके कप्तान भारतीय टीम के वर्तमान कप्तान विराट कोहली थे। भारत ने वो विश्व कप जीता और उसके मुख्य सूत्रधार रहे रविंद्र सिंह जडेजा, उन्होंने विश्व कप में खेले गए 6 मैचों में महज 13 की औसत से 10 विकेट झटके थे।

रविन्द्र जडेजा का घरेलू क्रिकेट में कदम

जडेजा सौराष्ट्र की तरफ से खेलते है और उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलने की शुरूआत दिलीप ट्रॉफी से किया जब 2006-07 के सत्र में वो पश्चिमी जोन से खेले थे, और उसके बाद उन्होंने रणजी ट्रॉफी में सौराष्ट्र के लिए खेलना शुरू किया। 2012 में जडेजा ने ऐसा करिश्मा किया जो अभी तक किसी भी भारतीय क्रिकेटर ने किया, जडेजा ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तीन तिहरे शतक जड़ें। ऐसा करने के बाद वो महान क्रिकेटरों की फेरहिस्त में शामिल हो गए जिनमे डॉन ब्रैडमैन, ब्रायन लारा, वाली हेमण्ड, डब्ल्यू जी ग्रेस जैसे खिलाड़ी शामिल थे।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और जडेजा

जडेजा के प्रथम श्रेणी में अच्छे खेलने की वजह से उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलने का मौका मिला, 2008-09 का रणजी सत्र उनके लिए बहुत शानदार रहा, इस सत्र में उन्होंने 739 रन बनाने के साथ 42 विकेट झटके। उनके इस प्रदर्शन के लिए उनका चयन श्रीलंका में होने वाली एकदिवसीय श्रृंखला के लिए हुए और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पर्दापण श्रृंखला के आखिरी मैच में 8 फरवरी 2009 को किया जहां उन्होंने 60 रनों की लाजवाब पारी खेली।

2009 में इंग्लैंड में हुए T20 विश्वकप के इंग्लैंड के खिलाफ उनकी धीमी पारी के लिये उनकी काफी आलोचना भी हुई थी, 2009 में ही यूसुफ पठान के टीम से बाहर होने के बाद उन्होंने 7 नम्बर पर अपना स्थान सुनिश्चित कर लिया था। उसके कुछ समय तक तो ठीक चला फिर उनका टीम से आना-जाना लगा रहा। 2012 के इंग्लैंड टेस्ट टीम के भारत दौरे पर रविंद्र जडेजा ने टेस्ट मैच में डेब्यू किया, अपने पहले ही टेस्ट मैच में उन्होने 70 ओवर गेंदबाजी की।

टेस्ट मैचों में उनके लिए सबसे सुनहरा पल 2013 में ऑस्ट्रेलिया टेस्ट टीम के भारत दौरे पर आया जब उनकी स्पिन गेंदबाजी ने 24 ऑस्ट्रेलियाई विकेट निकाले थे और दूसरे टेस्ट मैच में तो उन्हें मैन ऑफ दी मैच का अवार्ड भी मिला था।

एकदिवसीय क्रिकेट में उनके लिए सबसे बढ़िया समय 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी में आया जब उनके हरफनमौला खेल से भारत एक बार फिर चैंपियंस ट्रॉफी जीतने में कामयाब रहा। पूरे टूर्नामेंट में उन्होंने 12 विकेट झटके थे और इंग्लैड के खिलाफ खिताबी मुक़ाबले में उन्होंने 2 विकेट लिए और 33 बेशकीमती रन बनाए और अंत मे वो नाबाद रहे, उन्हें उनके इस शानदार खेल के लिए गोल्डन बॉल का अवार्ड भी मिला।

2013 में रविंद्र जडेजा एकदिवसीय क्रिकेट में नम्बर 1 गेंदबाज बने, 2015 में जडेजा का चयन क्रिकेट विश्व कप 2015 के लिए हुआ जहां उन्होंने 8 मैचों में 9 विकेट लिए। टेस्ट मैचों में रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा की जोड़ी ने विपक्षी टीमों के लिए कहर बरपाना शुरू कर दिया था और उन दोनो की जोड़ी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक खतरनाक जोड़ी बन चुकी थी। 2018 में उन्होंने अपनी पहली टेस्ट सेंचुरी जड़ी।

आईपीएल (IPL)

जडेजा ने अपने आईपीएल (IPL) की शुरूआत IPL के पहले संस्करण से की, उन्होंने राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलना शुरू किया और पहले ही संस्करण में राजस्थान को विजेता बनाने के लिए अहम भूमिका निभाई। 2011 में वो कोच्चि टस्कर्स से जुड़े और फिर 2012 में वो चेन्नई सुपरकिंग्स से जुड़े और अभी तक वो चेन्नई के एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी है हालांकि बीच मे जब चेन्नई पर दो साल का प्रतिबंध लगा तो वो उस समय गुजरात लायंस की तरफ से खेले।

रविंद्र जडेजा के आंकड़े

  • रविंद्र जडेजा ने अपना पहला एकदिवसीय 8 फरवरी 2009 को श्रीलंका के खिलाफ खेला और आखिरी मैच 11 फरवरी 2020 को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेला।
  • पहला टेस्ट 13 दिसंबर 2012 को इंग्लैंड के विरुद्ध खेला और आखिरी मैच 29 फरवरी 2020 को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेला।
  • पहला T20 10 फरवरी 2009 को खेला और आखिरी T20 29 जनवरी 2020 को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेला।

अनुभवी खिलाड़ियों का कहना है कि रविन्द्र जडेजा एक होनहार खिलाड़ी जैसे विराट कोहली, म स धोनी , शिखर धवन और रोहित शर्मा जैसे बनेंगे|

अब तक जडेजा ने 49 टेस्ट मैचों में 35.69 की औसत से 1869 रन बनाये है जिसमे 1 शतक और 14 अर्धशतक शामिल हैं अगर गेंदबाजी की बात करे तो टेस्ट मैचों में उनके नाम 213 विकेट है और उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 48 रन देकर 7 विकेट झटके है।

जडेजा 169 एकदिवसीय मैचों में शिरकत कर चुके है उनके नाम 2296 रन है और 187 विकेट है

अगर T20 की बात करे तो उनके नाम 49 मैच है जिनमें 39 विकेट झटके है।

अगर प्रथम श्रेणी क्रिकेट की बात किये जायें तो उनके आंकड़े लाजवाब है, 102 मैचों में उन्होंने 10 शतक और 29 अर्धशतक की बदौलत 5799 रन बनाए है और उनका सर्वोच्च स्कोर 331 है और उन्होंने गेंदबाजी में 423 विकेट झटके है।

अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई है तो इस पोस्ट को फेसबुक, Instagram और Pintrest पे share करें|

ऐसे ही रोजाना जानकारी पाने के लिए जुड़े रहे hindi.todaysera.com/ के साथ।

error: Content is protected !!